Followers

Tuesday, March 06, 2018

"5 मार्च-मेरे पौत्र का जन्मदिवस" (चर्चा अंक-2901)

मित्रों! 
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

जन्मदिन  

"5 मार्च-मेरे पौत्र का जन्मदिवस"  

जन्मदिन पर आज कुछ उपहार दूँगा। 
हृदय से निकले हुए उद्गार दूँगा।। 

उन्नति की राह पर बढ़ते रहो तुम
नित्य नवसोपान पर चढ़ते रहो तुम,  
ज्ञानवर्धक पोथियाँ पढ़ते रहो तुम
गर भटक जाओ कभी मझधार में
पार करने को तुम्हें पतवार दूँगा... 

--

नाग वंश अतीत और वर्त्तमान 


देहात पर राजीव कुमार झा  
--

लोकतंत्र और सरकार 

ऐसा करना क्या ठीक रहेगा ? 
जनता हमारे बारे में क्या धरना बनाएगी?  
क्यों ...ऐसा क्यों सोच रहे हो?  
यही तो तुमलोगो में कमी है... 
Kaushal Lal 
--

क़र्ज़ मुहब्बत का ... 

उम्र खर्च हो जाती है लम्हा लम्हा 
तुम्हारी यादों का सिलसिला 
ख़त्म नहीं होता... 
Digamber Naswa  
--
--

शांत रातें 2  

शांत रातों की कड़ी में 
स्वलिखित एक और रचना:-  
abhinav pandey  
--

हाईकू 

१- 
भीगा मौसम  
पर वाली चींटियाँ  
घर बाहर... 
Akanksha पर Asha Saxena  
--
--
--
--

श्रीदेवी तिरंगे की हक़दार 

Image result for श्रीदेवी तिरंगे की हक़दार
''क्या किसी फ़िल्मी सितारे के निधन की तुलना सरहद पर मारे जाने वाले सैनिक से की जा सकती है? क्या बॉलीवुड में काम करना देश की सेवा करने के बराबर है?'' 
! कौशल ! पर Shalini Kaushik  
--
--
--
--
--
--
--
--
--

5 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुंदर चर्चा, सार्थकता से भरी आलोचना मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर लिंक्स.मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  4. विस्तृत चर्चा चर्चा मंच पर ...
    आभार मेरी रचना को जगह देने के लिए ...

    ReplyDelete
  5. सभी की पोस्ट एक से एक
    आपके पौत्र को हमारी तरफ से जन्मदिन की मीठी - मीठी शुभकामनाएं
    और मेरी आइये स्वाद ले रबड़ी खीर का वाली पोस्ट आपके पौत्र के जन्मदिवस पर उपहार बन गई

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"उफ यह मौसम गर्मीं का" (चर्चा अंक-2982)

मित्रों!  शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...