Followers

Saturday, April 28, 2018

"यह समुद्र नहीं, शारदा सागर है" (चर्चा अंक-2954)

मित्रों! 
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--

309. इंसान 

वह आदमी, 
जिससे मैं सुबह मिला था, 
कमाल का इंसान था, 
बड़ा दयावान,बड़ा संवेदनशील, 
किसी का बुरा न करनेवाला, 
किसी का बुरा न चाहनेवाला, 
सब की खुशी में खुश, 
सबके दुख में दुखी.
वही आदमी जब शाम को मिला, 
तो बदला हुआ था,.. 
कविताएँ पर Onkar  
--

अस्तित्व 


purushottam kumar sinha  
--
--
--

रेप समस्या व  

समाधान हेतु विमर्श 

लिखना तो बहुत दिनों से चाहता था किन्तु लिखा नहीं| जैसे ही मोदी सरकार ने रेपिस्टों के खिलाफ कठोर कानून बनाया कि नाबालिग से रेप करने वाले को फाँसी की सजा दी जायेगी व अन्य में अधिकतम सजा उम्रकैद होगी तो मैं अपने को लिखने से रोक नहीं पाया| रेप अत्यधिक निन्दनीय कृत्य है, किसी भी समाज के लिए कलंक है, किसी भी रूप में स्त्री अस्मिता से खिलवाड़ एक सभ्य समाज में त्याज्य होना चाहिए| रेप से रेप पीड़िता को व उसके परिवार को गहरा मानसिक, सामाजिक, पारिवारिक व आर्थिक आघात पहुँचता है| अपूरणीय क्षति होती है जिसकी भरपाई कई पीढ़ियों बाद भी सम्भव नहीं होती| कभी कभी पीड़िता व उसके परिवार का समापन हो जाता है...  
Vimal Shukla  
--
--

विचारक 

Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar 
--
--

TV 

Mere Man Kee पर 
Rishabh Shukla  
--
--

7 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुंदर कविताएं। मेरी कविता शामिल की। शुक्रिया।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर हलचल ......मेरी रचना "टी.वी." को स्थान देने हेतु धन्यवाद|
    https://meremankee.blogspot.in/2018/04/tv.html

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर

    आज के इस चर्चा मंच में मेरे पोस्ट को जगह देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

    https://www.hindime.co/2018/04/railway-ticket-booking-new-rule.html

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर लिंक्स का समायोजन हुआ है आज की चर्चा में ।

    मेरी गजब की रोशनी में मेरे भी एक सितारे का योगदान लिया इसका आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"ज्ञान न कोई दान" (चर्चा अंक-3190)

मित्रों!  बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') -- दोहे   &q...