Followers

Tuesday, May 15, 2018

"रखना सम अनुपात" (चर्चा अंक-2971)

मित्रों! 
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--
--

"सृजनहार"  

दोहे  

राधा तिवारी" राधेगोपाल " 

साहस से अपनी चले, नारी सीधी चाल l
 सागर की लहरें सदा, लाती है भूचाल ll

जीवन के हर क्षेत्र , करती रही कमाल l
 लेकिन दुनिया नारि परकरती सदा सवाल... 
--
--
--
--
--
--
--

नज़रे इनायत 

इक जरासी रात की 
 नज़रे इनायत क्या हुई 
,हम हम न रहे खुद को भूल गए 
वे भावनाओं में इस कदर खोए 

कि परिणाम भी न सोच पाए
नतीजा क्या होगा... 
Akanksha पर Asha Saxena  
--
--

किताबों की दुनिया - 177 

नीरज पर नीरज गोस्वामी 
--

गुड़ - शक्कर 

कहाँ शक्कर और कहाँ गुड़ ! 
एक रिफ़ाइंड, सुन्दर, खिलखिलाकर बिखर-बिखर जाती, नवयौवना , 
देखने में ही संभ्रान्त, सजीली शक्कर और कहाँ गाँठ-गठीला, 
पुटलिया सा भेली बना गँवार अक्खड़ ठस जैसा गुड़... 
लालित्यम् पर प्रतिभा सक्सेना 

3 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति ..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आपस में मतभेद" (चर्चा अंक-3069)

मित्रों। सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   ...