Followers

Friday, September 14, 2018

"हिन्दी दिवस पर हिन्दी करे पुकार" (चर्चा अंक-3094)

मित्रों! 
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--
--
--

आस पर विश्वास 

डॉ. अपर्णा त्रिपाठी 
--
--
--
--

प्रेम 

Nibha choudhary 
--

अंतर का दीया 

मेरे अंतर में एक दीया 
सदा प्रजवलित रहता है 
जो मुझे हर ग़लती से 
आगाह करता है... 
प्यार पर Rewa tibrewal  
--
--
--

हे अशोक 

ऋता शेखर 'मधु' 
--

8 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. शुभप्रभात
    शानदार लिंक्स
    धन्यवाद मेरी ग़ज़ल को भी स्थान देने के लिए

    ReplyDelete
  3. सुन्दर हिन्दी दिवस चर्चा। हिन्दी दिवस की हिन्दी प्रेमियों को शुभकामनाएं। आभार आदरणीय 'उलूक' के बेसुरे को जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
  5. हिन्दी दिवस पर सुन्दर चर्चा। सभी मित्रों को हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।मेरी
    रचना को शामिल करने के लिये बहुत धन्यबाद।

    ReplyDelete
  6. बहुत जरुरत है हिंदी को हमारे इस मंच जैसे प्रयासों की, साधुवाद !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर सूत्रों से सुसज्जित आज का चर्चामंच ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  8. भाइयो बहुत बहुत आभार, निकले जो भारतीयों के मन से हिन्दी के प्रति उद्गार,आप सभी का बहुत बहुत सत्कार, हिन्दी भारत माँ के मस्तक की बिन्दी,
    शास्त्री जी सादर नमस्कार आप व आपके सहयोगियों का हिन्दी दिवस पर सादर अभिनन्दन और सम्पूर्ण हिन्दी ब्लाग लेखकों का भी बारम्बार अभिनन्दन जिनके कार्यों से आज विश्व पटल पर हिन्दी भाषा अपना सम्मानित स्थान पा सकी है। कुछ समय से मेरी व्यस्तता के कारण में अपनी साइट https://www.ayurvedlight.com/ पर लेखन कार्य नही कर पाया इसके लिए आप सभी से तथा अपने पाठक वर्ग से क्षमा प्रार्थी हूँ लेकिन प्रभु कृपा से अब में अपना लेखन चालू कर रहा हूँ आशा करता हूँ कि आप सभी का स्नेह में पुऩः प्राप्त कर सकूँगा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"चाहिए पूरा हिन्दुस्तान" (चर्चा अंक-3103)

मित्रों!  रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -0- ...