Followers

Tuesday, October 02, 2018

"जय जवान-जय किसान" (चर्चा अंक-3112)

मित्रों! 
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

गीत  

"जय जवान-जय किसान"  

!! श्रद्धापूर्वक नमन !! 

सत्य,अहिंसा का पथ जिसने, दुनिया को दिखलाया।
सारे जग से न्यारा गांधी, सबका बापू कहलाया।। 

शब्द ही सत्य है 

Abhilasha
--

क्षितिज 

पेङो की फुनगी पर बैठी,  
आज सुनहरी शाम,  
हर्षित मन, नयन 
उम्मीद के द्वार पर... 
Anita Saini  
--
--
--
--

"टॉपर बिटिया टॉप करेगी " 

टॉपर लड़की का बलात्कार
छपा इस शीर्षक के साथ समाचार
'इस तरह कर दी टॉपर लड़की की जिंदगी तबाह '
कोई पूछे अखबार वालों से
इसी तरह दीजियेगा
बेटियों का साथ... 
shikha kaushik 
--
--
--
--

इन्तिहाँ कर ले 

उठ रे मन कोई सुबह कर ले 
आतिशे-ग़म की इन्तिहाँ कर ले 
यूँ ही नहीं चल सकेगा आगे 
माथे में कोई उजाला भर ले... 
गीत-ग़ज़ल पर शारदा अरोरा  
--
--
--

अधिकार की अधिकता 

 महत्वहीन ज्ञान से उपजी तर्क की अधिकता,  
सामाजिक सरोकार बिना सम्मान की अधिकता //  
सोच-समझ कर ना कही बात की अधिकता,  
सम्बन्धो में त्याग के बिना अधिकार की अधिकता... 
Tej Pratap 
--

हिसाब ...  

बे-हिसाब यादों का ... 

सुबह हुई और भूल गए
यादें सपना नहीं

यादें कपड़ों पे लगी धूल भी नहीं
झाड़ो, झड़ गई.... 
Digamber Naswa 
--
--
--
--
--

मैं खरीद दार जो हूं..... 

सिस्टम में नहीं फिट बैठता,  
क्या करूं, 
थोड़ा सा मैं ईमानदार जो हूं।  
रो पड़ता हूं किसानों की खुदकुशी पर ,  
थोड़ा सा मैं जमीनदार जो हूं... 

अन्तर्गगन पर 

धीरेन्द्र अस्थाना 

7 comments:

  1. गांधी जी और शास्त्री जी का जनक दिन सभी को मुबारक ...
    सुंदर चर्च आज की ...
    आभर मेरी रचना को जगह देने के लिए ...

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. शुभ प्रभात
    गांधी जी और शास्त्री जी की जयंती पर चर्चा मंच के सभी साथियों को हार्दिक बधाई
    आज का चर्चा मंच बहुत ही सुन्दर।
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार
    सादर

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति
    गांधी जी एवं शास्त्री जी की जयंती पर सबको हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  5. देश के महान सपूतों को उनकी जयंती पर सादर नमन।

    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति बेहतरीन रचनाएं सभी चयनित रचनाकारों को बधाई। मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"कल-कल शब्द निनाद" (चर्चा अंक-3131)

मित्रों!   रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    -- दोहे...