Followers

Sunday, October 07, 2018

"शरीफों की नजाकत है" (चर्चा अंक-3117)

मित्रों! 
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--

दोहे  

"लाल बहादुर शास्त्री " 

( राधा तिवारी "राधेगोपाल " ) 

सदा सादगी से रहे ,पूरे जीवनकाल।
 लाल बहादुर का रहाजीवन बड़ा कमाल... 
--
--
--
--
--
--

जिनके बिगड़े रहते हैं बोल 

जिनके बिगड़े रहते हैं बोल,  
बातों में विष देते घोल।  
वे सोच समझ कर नहीं बोलते,  
नहीं जानते शब्दों का मोल... 
Jayanti Prasad Sharma 
--
--
--
--

एक ग़ज़ल :  

जड़ों तक साज़िशें--- 

जड़ों तक साज़िशें गहरी ,सतह पे हादसे थे 
जहाँ बारूद की ढेरी , वहीं पर घर बने थे 
हवा में मुठ्ठियाँ ताने जो सीना ठोकते थे... 
आनन्द पाठक 
--
--

संवेदनाएं 

विलख-विलख कर जब कोई रोता है,
क्यूँ मेरा उर विचलित होता है?
ग़ैरों की मन के संताप में, 
क्यूँ मेरा मन विलाप करता है?
औरों के विरह अश्रुपात में,
बरबस यूँ ही क्यूँ....
द्रवित हो जाती हैं ये मेरी आँखें..... 
purushottam kumar sinha 

8 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात
    बहुत-बहुत शुक्रिया और शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  3. बढिया बढिया लिंक्स से सजा है आज का चर्चा मंच

    ReplyDelete
  4. शुभ प्रभात आदरणीय

    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति
    मेरी रचना को स्थान दिया आपका अति आभार आदरणीय
    सभी रचना कारों को हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रविवारीय चर्चा। मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. सदर के नाम पर होेती, हुकूमत में हजामत है
    बहुत सशक्त प्रासंगिक अभिव्यक्ति अर्थगर्भित व्यंजना संसिक्त।
    gyanvigyan2018.blogspot.com
    veerujibulandshahri.blogspot.com

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"कल-कल शब्द निनाद" (चर्चा अंक-3131)

मित्रों!   रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    -- दोहे...