Followers

Monday, October 08, 2018

"कुछ तो बात जरूरी होगी" (चर्चा अंक-3118)

मित्रों! 
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 
--
--
--
--
--
--
--
--

10 comments:

  1. सुप्रभात,
    सुबह की पावन बेला के साथ ये रंगभरी चर्चा अछि लगी।रचनाये बहुत अच्छी हैं।मुझे भी स्थान देने के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  4. “रूप”-रंग पर गर्व न करना,
    नश्वर काया, नश्वर माया।
    बूढ़ा बरगद क्लान्त पथिक को,
    देता हरदम शीतल छाया।
    वाह ! लाज़वाब मरबे -हवा क्या कहने है तर्ज़े बयाँ के :
    झूठे रिश्ते झूठी काया ,
    सबको माया ने भरमाया
    रोवे तरह दिन तक तिरिया
    फ़िर एक नया बटेऊ आया ,
    तिरिया को उसने बहकाया ,
    माया को कोई समझ न पाया।
    blog.scientificworld.in
    vaahgurujio.blogspot.com
    nanakjio.blogspot.com
    veerujianand.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा ... नए लिंक ...

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर और उपयोगी चर्चा।

    ReplyDelete
  9. वाह ! बहुत ही सुन्दर सूत्रों से सजी आज की चर्चा ! मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे ! वैसे आज ब्लॉग पर सूचना नहीं थी ! कदाचित स्पैम में चली गयी होगी ! पुन: आभार आपका !

    ReplyDelete
  10. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"कल-कल शब्द निनाद" (चर्चा अंक-3131)

मित्रों!   रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    -- दोहे...