Friday, October 26, 2018

"प्यार से पुकार लो" (चर्चा अंक-3136)

मित्रों!   
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')  
--
--

माँ की ममता से ! 

SADA 
--

वनराज के राज में,  

रणथम्भौर 

गगन शर्मा 
--

कुकुरमुत्ते कैसे कैसे 

parmeshwari choudhary 
--

Gujrat Yatra :  

Somnath Jyotirling Temple 

(Travel Lover) पर 
Naresh Sehgal  
--

एक फुट के मजनूमियाँ -  

भूमिका आदरणीय प्रतुल वशिष्ठ जी 

Sudhinama पर 
sadhana vaid 
--

शरदचंद्र की सुहानी रात 

लगती प्यारी-मनोहारी आज ....

धवल-चन्द्रिका झूम रही है
हंसी अधर पर गूंज रही है
उजली-उजली ये नशीली रात
लगती प्यारी-मनोहारी आज .... 
--

प्रधानमंत्री मोदी 

खुद राफेल घोटाले में संलिप्त है-  

रणधीर सिंह सुमन 

Randhir Singh Suman 
--

फीका-फीका लगे चाँद का शबाब 

Sahitya Surbhi पर 
Dilbag Virk 
--

138-  

हे कविवर ,  

आभार ! 

--

591.  

चाँद की पूरनमासी... 

चाँद तेरे रूप में अब किसको निहारूँ?   

वो जो बचपन में दूर का खिलौना था  
या फिर सफेद बालों वाली बुढ़िया  
जो चरखे से रूई कातती रहती थी  
या फिर वो साथी जिससे बतकही करते हुए  
न जाने कितनी पूरनमासी की रातें बीतीं थीं ... 

डॉ. जेन्नी शबनम  
--

हरिहर्सुतन ( अय्यन +अप्पन =अय्यप्पन ) 

मोहिनी रूप में विष्णु और  

शिव के अवतार समझे जाते हैं. 

इनकी पूजा अर्चना के लिए दुनिया भर से  

लोग केरल के इस परबत पर पहुँचते हैं  

जिसका नाम सबरीमाला है. 

२०१९ के आलोक में ये  

हमारे रक्तरँगी लेफ्टिए  

अयोध्या के बरक्स  

'सबरीमाला'  

को खड़ा करना चाहते हैं 

Virendra Kumar Sharma 
--

उसको हैरत में डालना है मुझे.... 

अर्पित शर्मा 

उसको हैरत में डालना है मुझे,
और दिल से निकालना है मुझे |
एहतियातो से उसको छूना है, 

अपना दिल भी संभालना है मुझे ... 
sweta sinha 
--

समालोचन पर arun dev  

--

मेहंदी डिज़ाइन- भाग 6  

(mehndi design- part 6) 

--

purushottam kumar sinha 

--

आज के परिपेक्ष में 

आज के परिपेक्ष में 
आधुनिकता के वेश में 
जो पहुंची चरम पर 
बहुत बदलाव आया है... 
Akanksha पर 

10 comments:

  1. सुन्दर शुक्रवारीय चर्चा।

    ReplyDelete
  2. यात्रानामा शामिल करने के आपका बहुत आभार

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर , सार्थक प्रस्तुति , बधाई !
    हृदय से आभार !

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. प्यार से पुकार बेहतरीन चर्चा

    ReplyDelete
  7. अपने पतियों पर करें, सभी नारियाँ गर्व।
    करवाचौथ सुहाग का, होता पावन पर्व।।

    सजनी करवाचौथ पर, रखती है उपवास।
    साजन-सजनी के लिए, दिवस बहुत ये खास।।

    जन्म-जिन्दगीभर रहे, सबका अटल सुहाग।
    साजन-सजनी में सदा, बना रहे अनुराग।।

    जरा-जरा सी बात पर, कभी न हो तकरार।
    पति-पत्नी के बीच में, आये नहीं दरार।।
    प्यार प्यार में ही यहां होती नित तकरार ,
    रूसा रूसी से यहां बढ़ता है सत्कार।
    बढ़िया दोहावली करवाचौथ पर शास्त्रीजी की :
    vaahgurujio.blogspot.com
    veeruji05.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. एक टिपण्णी
    प्रधानमंत्री मोदी
    खुद राफेल घोटाले में संलिप्त है-
    रणधीर सिंह सुमन

    लो क सं घ र्ष ! पर
    Randhir Singh Suman
    पर :
    बौद्धिक भकुए चीन के राष्ट्रवादी गुलाम ,कांग्रेस के कूकर आज ज्यादा ही भौं भौं कर रहे हैं। हद तो यह है हिन्दू आतंकवाद जैसे शब्द सेक्युलर ढाँचे में फिट करने की लगातार कोशिश की गई है। अब कोशिश अयोध्या के बरक्स शबरीमला (सबरीमाला )को रखने की हमारे रक्तरँगी लेफ्टिए कर रहे हैं। ये महिला ब्रिगेड उन्हीं लोगों की है जो माथे पे बड़ी बिंदी लगातीं हैं तुलसी वन निधिवन जैसे प्रतीकात्मक वृंदा और सीताराम खे -चारि जैसे नाम रखे घूम रहे हैं इन्हीं प्रतीकों का नाश करने के लिए। क्या यह आकस्मिक है महिलायें ही महिलाओं के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट के फैसले का विरोध कर रहीं हैं। सबरीमला के पावित्र्य के नाम पर। जिस यौनि से निकलके आये जिसके रक्तस्राव से पोषित पल्लवित हुए उसी से ख़तरा। कैसा खतरा और कैसा पावित्र्य है यह इस बात को नाभि से नीचे के संबंधों को ही सम्बन्ध बूझने वाले कामोदरी काम -रेड्डी समझेंगे भी कैसे ?आप मौज़ू सवाल उठा रहे हैं हैं भाई साहब ,उस दौर में जबकि चोट्टे संतों को चोर कहने लगें हैं। साध्वियों को जो प्रताड़ित करते रहे थर्ड डिग्री अंग्रेज़ों को भी लजाने वाले पूरी बे -शर्मी से आज़माते रहे के ,कहीं से ,कैसी भी इसका हौसला टूटे। अरे जो पुत्रेष्णा ,,वित्तेषणा ,हर प्रकार की वासना से ऊपर उठ संन्यास में प्रवेश ले चुकी थीं उनके आत्म बल को नेहरुपंथी अवशेषी कांग्रेस क्या खाकर तुड़वाती ?
    रायफ़ैल क्या किसी की रखैल है ?कृपया बतलायें जिसके बारे में संसद में खासी बहस हो चुकी है। एक साले का नामा आया था बोफोर्स में दूसरे का बोफोर्स में। उन्नीस बहुत दूर नहीं है नेहरू पंथी अवशेषी कांग्रेस के चार उच्चक्के चालीस चोर भी सिमट कर चार पर आ गए हैं।लेफ्टीयों की हालत तो और भी बदतर ले देकर एक केरल ही बचा है उसे भी सांप्रदायिक आग और हत्याओं के हवाले कर रहें हैं।
    veerubhai1947.blogspot.com
    veerusa.blogspot.com
    veerujan.blogspot.com
    veerujibraj.blogspot.com
    veerujialami.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चर्चा
    मेरी पोस्ट का लिंक आज कि चर्चा में लगाने का सहृदय आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।