Followers

Sunday, November 11, 2018

"छठ पूजा का महत्व" (चर्चा अंक-3152)

शनिवार चर्चा में आपका स्वागत है।   
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')  
--

छठ पर्व की हार्दिक बधाई 

एवं शुभकामनाएँ

Image result for छठ पूजा

Ocean of Bliss पर 
Rekha Joshi  
--
--

दीपावली 

दीये की रौशनी से जगमगाता रहे  
हमारे देश का हर कोना  
सब के दिलों में जलती रहे  
प्यार की लौ... 

प्यार पर 
Rewa tibrewal  
--

श्याम बिहारी श्यामल की ग़ज़ल-  

133 

दायरा टूटे बगैर बात कहाँ बनती हैं  
कहां घड़ी की सुई कभी कहीं पहुँचती हैं,, 

Shyam Bihari Shyamal  
--

काकोरी - क्रान्तितीर्थ  

भाग - दो 

भारत में अंग्रेजी राज का इतिहास उनके छल और बल की कथा है तो वह हमारी यानी भारत के लोगो की कमजोरी , चरित्र की गिरावट के साथ उनके त्याग , तपस्या और बहादुरी की दास्ताँ भी है | 1600 ई. में इंग्लैण्ड में स्थापित ईस्ट इंडिया कम्पनी नाम की संस्था व्यापार करने भारत आई परन्तु हमारे आपसी द्देष तथा अन्य कमजोरियों का लाभ उठाकर भारत की शासक बन बैठी...

sunil kumar 
--

सबकी माँगू खैर 

मेरे २००० से अधिक फेसबुक मित्रों में आदरणीय आर.के.सूरी जी अनन्य हैं, वे एसीसी के बड़े अधिकारी रहे हैं इसलिए मेरा एक ‘फॉर्मल बोंड’ उनके साथ है. वे अकसर अपनी वॉल पर ज्ञानवर्द्धक/ समसामयिक लेख प्रकाशित करते रहते हैं जिसे उत्सुकतापूर्वक पढ़ा जाता है; पर कभी ऐसा भी होता है कि ‘अच्छी किताब व अच्छे इंसान को पहचानने के लिए काफी समय तक पढ़ना पड़ता है... 
जाले पर पुरुषोत्तम पाण्डेय 
--

त्यौहार विशिष्ट 

विशिष्ट त्यौहार आया

है पांच दिवस का
रंग रोगन का
साफ सफाई का
जिस घर में हो उजास
वहीं रहे लक्ष्मी का वास... 
Akanksha पर 
Asha Saxena 
--

स्मृति कह लो या आत्मा 


रश्मि प्रभा.. 
--

छुट्टियों के बाद ....... 

लंबी छुट्टियों के बाद  
थमी हुई ज़िंदगी  
थोड़ा अलसाते हुए  
फिर पा लेती है ऊर्जा..

Yashwant Mathur  
--

एचआयवी एडस  

इस विषय को लेकर  

जागरूकता हेतु  

एक साईकिल यात्रा 

हर सुबह लगभग ८०+ किलोमीटर साईकिल चलाऊँगा| एचआयवी होनेवाले बच्चों के बाल गृह चलानीवाली चार संस्थाओं में भेंट करूँगा| वहाँ चल रहा कार्य, वहाँ के कार्यकर्ताओं के अनुभव इस पर चर्चा होगी|‌ उसके अलावा बच्चों से गपशप और संवाद होगा| इसके अलावा दुसरी भेंट कार्यकर्ताओं से होगी| उनके अनुभव, उनकी सक्सेस स्टोरीज आदि पर चर्चा होगी| ये चार संस्थाएँ ऐसी है- पंढरपूर- पालवी प्रोजेक्ट, बीड- इन्फँट इंडिया संस्था, हसेगांव (लातूर)- सेवालय संस्था और अकोला- सर्वोदय एडस बालगृह... 

Niranjan Welankar 
--

चोरी की कला में माहिर एक राजवंश 

भारत में वर्ण संकरों का एक ऐसा हाइब्रिड कुनबा है जिसने एक प्रसिद्ध ही नहीं सिद्ध पुरुष का नाम चुरा लिया है और बरसों से इसे बरत रहा है। जबकि इस कुनबे के न कुल का अता -पता है न गोत्र का न इतिहास का। इस कुनबे का बचा खुचा हिस्सा न इस देश की भाषा और संस्कृति से वाकिफ है न परम्परा से। अलबत्ता चोरी में निष्णात इस कुनबे ने एक नै विधा चोर्य की विकसित की है चोरी करके भागो और खुद ही शोर मचाओ -पकड़ो पकड़ो चोर चोर ...चोर चोर... 
Virendra Kumar Sharma  
--
--

10 comments:

  1. छठ पर्व पर सुन्दर चर्चा प्रस्तुति। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete

  2. मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रविवारीय चर्चा।
    मेरी रचना शामिल करने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. सुंदर चर्चा अंक सभी रचनाऐंज्ञान वर्धक ।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    ReplyDelete
  5. आभार...
    शुभकामनाएँ..
    सादर...

    ReplyDelete
  6. बोलौ गोरी रहिहौं कित में,
    कै काहू के आईं पाहुने,
    देखी नहीं कबहू इत में।
    --------छोड़ शर्म कहौ करिबे कूँ,
    जो हो कर्म तुम्हारे हित में।
    ब्रज माधुरी की तान सारल्य और मिठास से संसिक्त रचना। ब्रजमंडल याद आ गया -बुलंदशहर -अलीगढ -मथुरा ...वाह जयंती प्रसाद जी शर्मा रास घोल दिया आपने चर्चा मंच में।रास से और रस ,राग और रंग से ही तो रसिया रे मन बसिया रे ,.....
    veerubulandshahari.blogspot.com
    veerujibulandshahari.blogspot.com
    veerujibraj.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. वाह जयंती प्रसाद जी शर्मा रस घोल दिया आपने चर्चा मंच में।रास और रस ,राग और रंग से ही तो रसिया रे मन बसिया रे ,.....
    veerubulandshahari.blogspot.com
    veerujibulandshahari.blogspot.com
    veerujibraj.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. veerubulandshahari.blogspot.com
    veerujibulandshahari.blogspot.com
    veerujibraj.blogspot.com
    चलो सखी नदिया के नीर
    करने प्रणाम
    मिला जिससे हमें जीवन दान-सूर्य ही तो जीवन का स्रोत है हमारे ग्रह के। उत्तम भाव बोध अर्थ बोध की प्रासंगिक रचना। माननीया रेखा जोशी जी की।

    ReplyDelete
  9. veerubulandshahari.blogspot.com
    veerujibulandshahari.blogspot.com
    veerujibraj.blogspot.com
    बढ़िया संस्मरण मेरठ की जुबां तू तड़ाक की नहीं है कस्टम इंस्पेकटर की अपनी जड़ें थीं अपभाषा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"ज्ञान न कोई दान" (चर्चा अंक-3190)

मित्रों!  बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') -- दोहे   &q...