Followers

Monday, December 03, 2018

"द्वार पर किसानों की गुहार" (चर्चा अंक-3174)

सुधि पाठकों!
सोमवार की चर्चा में 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--

पुर्नस्थापितं भव 

सुशील कुमार जोशी  
--
--

पिता 

deepti sharma 
--

क्षणिकाएं 

Kailash Sharma  
--
--

हाईकू 

स्वर बेसुर  
कानों में खटके करें  
बेचैन व्यर्थ... 
Akanksha पर 
Asha Saxena  
--
--

बडा आदमी 

\
डॉ. अपर्णा त्रिपाठी  
--
--
--
--

सूखती नदी 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा  
--
--

शमा रातभर जलती रही 

शमा रातभर जलती रही,  
पिघलती रही।  
खोती रही अपना अस्तित्व,  
मिटाने को तमस।  
उसकी सदेच्छा,  
न भटके कोई अँधेरे में।  
न होये अधीर,  
घबड़ा कर निबिड़ अन्धकार से... 
Jayanti Prasad Sharma 
--
--

बेबस दिखते राम अभी 

राजनीति के रखवालों ने किया है ऐसा काम अभी।  
निर्बल के बल राम सुना पर बेबस दिखते राम अभी... 
श्यामल सुमन  
--

10 comments:

  1. उम्मीदों का श्रृंगार करती हुई कविता किरण जी की खूबसूरत ग़ज़ल तबले के बोल सी मुखर
    satshriakaljio.blogspot.com
    veerujan.blogspot.com
    zanaabveeruda.blogspot.com
    veeruji05.blogspot.com
    veerusa.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. बेहद खूबसूरत भाव और अर्थ के शिखर को छूती हुई ग़ज़ल।

    दिल का दीया जलाके गया ये कौन मेरी तन्हाई में ,

    रोम रोम क्यों पुलक रहा रिश्तों की अंगड़ाई में ?

    zanaabveeruda.blogspot.com
    veerusa.blogspot.com
    veerujan.blogspot.com

    गीत-ग़ज़ल, दोहा-चौपाई, सिसक रहे अमराई में
    भाईचारा तोड़ रहा दम, रिश्तों की अँगनाई में

    फटा हुआ दामन दर्जी को, सिलना नहीं अभी आया
    सारा जीवन निकल गया है, कपड़ों की कतराई में

    रत्नाकर में जब भी होता, खारे पानी का मन्थन
    मच जाती है उथल-पुथल सी, सागर की गहराई में

    केशर की क्यारी को किसने, वीराना कर डाला है
    महाबली बलिदान हो गये, बारूदों की खाई में

    मन के दर्पण में लोगों ने, चित्र-चरित्र नहीं देखा
    'रूप' सलोना देख रहे सब, धुँधली सी परछाई में

    ReplyDelete
  3. उपयोगी लिंकों के साथ पठनीय चर्चा।
    आभार आपका राधा तिवारी जी!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सोमवारीय चर्चा प्रस्तुति। आभार राधा जी 'उलूक' के स्थापना दिवस को जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  5. शुभ प्रभात आदरणीया
    बहुत ही सुन्दर चर्चा प्रस्तुति 👌
    गूंगी गुड़िया को स्थान देने के लिय सह्रदय आभार आदरणीया
    सादर

    ReplyDelete
  6. ख़ूबसूरत सूत्रों से सजी रोचक चर्चा... मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  7. धन्‍यवाद राधाजी, मेरी ब्‍लॉगपोस्‍ट को इस संकलन में सम्‍मिलित करने के लिए आपका आभार

    ReplyDelete
  8. बढिया चर्चा, शामिल किया आभार आपका

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  10. ह्रदय से आभार आपका

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"ज्ञान न कोई दान" (चर्चा अंक-3190)

मित्रों!  बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।   देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') -- दोहे   &q...