Wednesday, January 30, 2019

"वक्त की गति" (चर्चा अंक-3232)

मित्रों! 
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--
--

603. 

वक़्त  

(चोका - 10) 

वक्त की गति 
करती निर्धारित 
मन की दशा 
हो मन प्रफुल्लित 
वक़्त भागता 
सूर्य की किरणों-सा... 
डॉ. जेन्नी शबनम   
--
--
--
--
--
--

बैंडिट क्वीन वाली  

सीमा याद है न ? 

गिरीश बिल्लोरे मुकुल 
--
--
--

वायदे तो कर दिये कैसे निभायेंगे 

कुर्सी की चाह ईस कदर बिलबीलाई थी
आपने उसके बदले कुछ वायदे कर डाले थे
हर शय वायदो को अपने से जोड़ मसीहा समझ
खातादार बन खाता पुस्तिका पकड़ बाट जोहती है
15 लाख के ईनृतजार मे सही भी सही से करपायेगे
आप बतायै हमसे वायदे तो कर दिये कैसे नीभायेगे... 
Rajeev Sharma 
--

Tuesday, January 29, 2019

"कटोरे यादों के" (चर्चा अंक-3231)

मित्रों!
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--
--
--
--

Ishq mein pagal ho jaunga. 

यूँ ना देखो ऐसे, मैं घायल हो जाऊँगा,  
तेरे इस हुस्न का, मैं कायल हो जाऊँगा,  
मेरे गीतों की गुनगुन सुनाई नहीं देती तो,  
तेरे इन पैरों का, मैं पायल हो जाऊँगा... 
Nitish Tiwary  
--
--

अवधारणा 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा  
--
--
--
--

वक़्त ने कुछ अनकही मजबूरियों को रख दिया ... 

मखमली से फूल नाज़ुक पत्तियों को रख दिया
शाम होते ही दरीचे पर दियों को रख दिया

लौट के आया तो टूटी चूड़ियों को रख दिया
वक़्त ने कुछ अनकही मजबूरियों को रख दिया... 
Digamber Naswa  

Monday, January 28, 2019

"सिलसिला नहीं होता" (चर्चा अंक-3230)

मित्रों!
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

ग़ज़ल  

"सिलसिला नहीं होता"  


बात का ग़र ग़िला नहीं होता
रार का सिलसिला नहीं होता

ग़र न ज़ज़्बात होते सीने में
दिल किसी से मिला नहीं होता

आम में ज़ायका नहीं आता
 वो अगर पिलपिला नहीं होता... 
--
--

क्या तुम मेरी वो गलती हो? 

 हाँ क्या? हो अगर तो और होगी,  
अब ये गलती!! दुनिया के ये पैमाने,  
जो मापे मुझको कदम कदम वेदना में  
जब टूटे ये मन कौन भरे सब हरे जख्म।  
क्या तुम मेरी वो गलती हो... 
Swaying Hearts पर 
Rajshree Sharma  
--

अवसाद 

छा जाताअंधेरा, चांद पर।  
रुक जाती किरणें, सूरज की।  
पीठ पर थामे भारी, बोझिल रश्मिपुंज।  
पसर जाता अवसाद, धरती का।  
बन कर चन्द्र ग्रहण, अंतरिक्ष में.    

जरा तलाश करना! इन्हें  

आप्टे साहब मिले? 

फेस बुक पर अचानक ही यह तस्वीर नजर आई। कुछ दिन पुरानी है। फिल्मी दुनिया के कुछ लोग प्रधान मन्त्री मोदी से मिलने गए थे। उसी समय की तस्वीर है यह। चित्र में प्रधान मन्त्री मोदी, अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा से हाथ मिलाने के लिए अपना हाथ बढ़ाए नजर आ रहे हैं। जवाब में परिणीति हाथ मिलाने के बजाय हाथ जोड़ कर नमस्कार करती दिखाई दे रही हैं। इस चित्र ने फेस बुक की ‘चाय की प्याली में तूफान’ ला दिया। अधिकांश लोगों ने परिणीति के इस व्यवहार को प्रधान मन्त्री मोदी का अपमान माना और खिन्नता जताते हुए परिणीति को अनेक परामर्श दिए... 
विष्णु बैरागी 

602.  

प्रजातंत्र 

मुझपर इल्जाम है उनकी ही तरह   
जो कहते हैं कि   
देश के माहौल से डर लगता है   
हाँ ! मैं मानती हूँ मुझे भी अब डर लगता है   
सिर्फ अपने लिए नहीं   
अपनों के लिए डर लगता है... 
डॉ. जेन्नी शबनम 
--
--

तिरंगे का पाँचवां रंग 

आँखों से बहते हुए आँसुओं ने जैसे उसके दिल में बसेरा कर लिया हो । अभी विज्ञापन देखा था जिसमें बच्चे ने शहीद हुए फौजी के रक्त को झंडे के पाँचवे रंग के रूप में गिनाया था ।
सच जब तक फौजी साँसें भरता है पराक्रम करता है तिरंगे की आन को बनाये रखता है ... पर जब उसकी साँसें थमती हैं तो जैसे उस झंडे में ही समाहित हो एक अनोखा सा रंग बन उभरता है । इस रंग के उभरने से राष्ट्र की चमक तो नहीं फीकी पड़ती पर उस फौजी के परिवार का क्या कहें ... कुछ समय बाद सब उसको भूल जाते हैं । कभी कुछ अनुकम्पा राशि या किसी दुकान की एजेंसी दे देते हैं ।उसके बाद .... उसके बाद कुछ खास नहीं बस 15 अगस्त या 26 जनवरी पर यादकर लेते हैं और कुछ फूल या माला अर्पित कर कर्तव्यमुक्त हो जाते हैं... 
झरोख़ा पर 
निवेदिता श्रीवास्तव 
--

बाई पुराण 

Akanksha पर 
Asha Saxena 

दिल की बात 

चिनारों की दरख़तों से 
फ़िज़ा लौट आयी इबादत की  
मीनारों से रूह लौट आयी  
सलवटें पड़ गयी रिश्तों की 
गलियारों में  
भूल जो मेरे वजूद का क़िरदार  
ढूँढती फिरी आसमां में... 
RAAGDEVRAN पर 
MANOJ KAYAL  
--