Friday, February 08, 2019

"यादों का झरोखा" (चर्चा अंक-3241)

मित्रों
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--

प्रवासी पक्षियों के डेरे ... 

पूजा प्रियंवदा 

किसी का होना 
बस होना भर ही 
काफी होता है 
हमें भरने के लिए

उस किसी का लौटना 
सज़ा होता है 
प्रवासी पक्षियों के डेरे 
रहते हैं साल भर उदास... 
yashoda Agrawal 
--

यादों का झोंका 

गूँगी गुड़िया पर Anita saini  
--

पुरुष की तू चेतना 

भाव तरल तर, अक्षर झर झर,  
शब्द शब्द मैं, बन जाता हूँ.  
धँस अंतस में, सुधा सरस सा,  
नस नस में मैं, बस जाता हूँ... 
--

मंगता कौन ? 

प्रदेश से आरक्षण की मांग को ले कर रैली को राजधानी तक जाना था। उन तीनों ने भी मुफ्त में खाने-पीने और राजधानी की सैर का मौका लपक लिया। शहर पहुंचते ही पुलिस से मुठभेड़ हुई ! ट्रैक्टर-ट्रालियां, दो पहिया, छोटी गाड़ियां, टपरे-छकड़े सब रोक दिए गए ! नतीजतन नारेबाजी, चक्का जाम. आगजनी, तोड़-फोड़ आदि तो होनी ही थी ! 
इस सब से मची अफरातफरी के बाद सरकार कसमसाई ! आरक्षण पर आश्वासन और फौरी तौर पर मुफ्त का राशन-पानी-बिजली-मंहगाई भत्ते की घोषणा हुई... 
गगन शर्मा 
--

दिल्ली में  

आप-कांग्रेस और भाजपा 

pramod joshi  
--

शिशुत्व की ओर 

बन चुकी है गठरी सी  
सिकुड़ चुके हैं अंग प्रत्यंग  
बडबडाती रहती है जाने क्या क्या  
सोते जागते, उठते बैठते  
पूछो, तो कहती है -  
कुछ नहीं सिर्फ देह का ही  
नहीं हो रहा विलोपन... 
vandana gupta 

7 comments:

  1. शुभ प्रभात आदरणीय
    बेहतरीन चर्चा प्रस्तुति 👌
    सुन्दर रचनाएँ, सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें |
    मुझे चर्चा में स्थान देने के लिए सह्रदय आभार आदरणीय |
    सादर

    ReplyDelete
  2. शुभ दिवस
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति, हार्दिक बधाई , आभार !

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया अंक। बधाई और आभार!!!

    ReplyDelete
  5. उम्दा लिंक्स|मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।