Tuesday, April 02, 2019

"चेहरे पर लिखा अप्रैल फूल होता है" (चर्चा अंक-3293)

मित्रों!
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--
--
--
--
--
--

अप्रैल फूल 

छत्तीसगढ़ निवासी, देश के प्रतिष्ठित व्यंग्यकार श्री वीरेंद्र सरल के सानिध्य से अनायास खिला एक फूल - “अप्रैल फूल” एक अप्रैल को रेडियो सिलोन से एक गीत प्रसारित होता था - एप्रिल फूल बनाया,तुमको गुस्सा आयातो मेरा क्या कसूर, जमाने का कसूरजिसने दस्तूर बनाया….. इस गीत को सुनने से तीन प्रकार का ज्ञान मिलता है। पहला यह कि अप्रैल फूल “बनाया” जाता है। ये अलग बात है कि कैसे बनाया जाता है इसकी रेसिपी इस गीत से पता नहीं चलती। दूसरा यह कि यह फूल गुस्सा पैदा करता है। इस फूल का बायोलॉजिकल नाम पता नहीं चल पाने के कारण गुण-धर्म भी खोजे नहीं जा सके हैं। तीसरा और महत्वपूर्ण ज्ञान यह कि कोई न कोई इस दस्तूर का जन्मदाता है जो कसूरवार है...

--
--

शर्ट के टूटे बटन में रह गए ... 

प्रेम के कुछ दाग तन में रह गए

इसलिए हम अंजुमन में रह गए
सब तो डूबे चुस्कियों में और हम
नर्म सी तेरी छुवन में रह गए... 
दिगंबर नासवा 
--
--
--

612.  

प्रकृति  

(20 हाइकु) 

डॉ. जेन्नी शबनम  
--

सफेद बैंगन 

Anita  
--

मूर्ख दिवस पर --  

समझदारी की बातें 

Jyoti Khare 
--

सेवा धर्म निभायेगा जो 

*चुनावों* का मौसम है, सभी दल अपनी अपनी उपलब्धियों को गिना रहे हैं और तरह-तरह के वायदों से मतदाताओं को लुभाने का प्रयत्न कर रहे हैं. पांच वर्ष का कार्यकाल पूर्ण करने के बाद यदि कोई नेता अपने क्षेत्र में पुनः वोट मांगने जाता है तो उसका काम ही यह तय करता है, वह इस बार जीतेगा या नहीं... 
Anita 
--
--

बिकाऊ -  

अज्ञेय 

Image result for do murtiya
खोयी आँखें लौटीं:
धरी मिट्टी का लोंदा
रचने लगा कुम्हार खिलौने।
मूर्ति पहली यह... 
रवीन्द्र भारद्वाज  
--
--
--

9 comments:

  1. बहुत सुंदर मंच, सभी को प्रणाम

    ReplyDelete
  2. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को 'चर्चा' मंच में स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत विस्तृत चर्चा सूत्र ...
    आभार मेरी ग़ज़ल को जगह देने के लिए ...

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति। आभार आदरणीय अंतरराष्ट्रीय उलूक दिवस पर उलूक की बकबक को चर्चा में जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  5. सुप्रभात आदरणीय 🙏
    बहुत ही सुन्दर चर्चा प्रस्तुति |शानदार रचनाएँ
    सादर

    ReplyDelete
  6. आभार..
    सादर नमन..

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत चर्चा

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन अंक
    उम्दा रचनाएं

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत सुंदर संयोजन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।