Monday, April 15, 2019

"भीम राव अम्बेदकर" (चर्चा अंक-3306)

स्नेहिल  अभिवादन  
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
 - अनीता सैनी 

दोहे

  'भीम राव अम्बेदकर" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक') 

 

---  

एक गीत -आकाशी गुब्बारों को 

----

 

खुले में बंद और बंद में 

खुली टिप्पणी करना

 कई सालों की

 चिट्ठाकारी के बाद ही आ पाता है

    पदचिन्ह

तेरे इन्तजार में 

9 comments:

  1. मंच पर सदैव की तरह आज भी काफी कुछ है।
    आभार आपका अनीता बहन।

    ReplyDelete
  2. उपयोगी लिंकों के साथ सार्थक चर्चा।
    आपका आभार अनीता सैनी जी।

    ReplyDelete
  3. उम्दा सजा चर्चा मंच |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद अनीता जी |

    ReplyDelete
  4. सार्थक लिंक ... बहुत से नए लिंक ...

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा अंक। आभार अनीता जी 'उलूक' के पन्ने को भी जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  6. शुभ दिवस
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  7. प्रिय अनीता -- बहुत ही सुंदर सूत्रों से सुसज्जित ये अंक बहुत ख़ास है | कविराज अलबेला जी को विनम्र नमन | मेरी रचना को स्थान दिया अभिभूत हूँ | आज के सभी रचनाकारों को सस्नेह शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  8. यह एक अद्भुत मंच है...... गुलदस्ता है.......उपवन है.....

    ReplyDelete
  9. सचमुच ही यह एक ऐसा मंच है जहाँ जब भी पधारें कुछ नया ही मिलता है ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।