Monday, June 17, 2019

"पितृत्व की छाँव" (चर्चा अंक- 3369)

मित्रों!
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--

कर्म-साक्षी 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा 
--

पिता 

Sudhinama पर Sadhana Vaid 
--
--
--
--

कौन जाने? -  

बालकृष्ण राव 

वीन्द्र भारद्वाज 
--
--
--
--

चन्द माहिया :  

क़िस्त 59 

1:  
सब क़स्में खाते हैं  
कौन निभाता है  
कहने की बाते हैं  
:2:  
क्या हुस्न निखारा है  
जब से डूबा मन  
उबरा न दुबारा है  
:3: .... 
आपका ब्लॉग पर आनन्द पाठक  
--
--

रिश्तों का सर्किट :  

लघुकथा 

झरोख़ा पर 
निवेदिता श्रीवास्तव  
--
--

हे परमपिता 

वो छांव थे वो धूप थे  
वो सौम्य सुखमय रुप थे  
था मोद का नहीं ओर-छोर  
सुख वृष्टि था चारों ही ओर  
नित दिन सुखद होता था भोर ... 
--
--

संकल्पों का प्रताप 

दुरूह यात्राओं को सहजता से,  
तय करना ही सिफ़त होगी  
यह तो तय है ज़िन्दगी हर क्षण,  
एक नयी आफ़त होगी... 
अनुशील पर अनुपमा पाठक 
--
--

युगबोध का  

पागल आदमी 

एकोऽहम् पर विष्णु बैरागी  
--
--

9 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा.मेरी कविता शामिल की. शुक्रिया.

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर चर्चा प्रस्तुति, शानदार रचनाएँ, सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें, मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार आदरणीय
    सादर

    ReplyDelete
  5. सुप्रभात, पठनीय सूत्रों से सजा चर्चामंच ! आभार !

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन संकलन ,सादर नमस्कार


    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. सुन्दर सार्थक सूत्रों का संकलन आज का चर्चामंच ! मेरी रचना को आज की प्रस्तुति में स्थान देने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।