Saturday, July 06, 2019

'' साक्षरता का अपना ही एक उद्देश्‍य है " (चर्चा अंक- 3388)

स्नेहिल  अभिवादन  
शनिवारीय चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है| 
देखिये मेरी पसन्द की कुछ रचनाओं के लिंक | 
 - अनीता सैनी 
------

दोहे 

 "अब झूठे सम्मान" 

 (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')  

 उच्चारण 

------

सावधान हो जाओ 

My Photo

उम्मीद तो हरी है ......… 

------

शुभकामनाएं पाँचवें वर्ष में कदम 

रखने के लिये पाँच लिंको के आनन्द 

My Photo

 उलूक टाइम्स 

-------

संभावना और पहाड़ 

My Photo

------

किताब .... 

(किताबें हमारी सबसे अच्छी मित्र होती हैं ) 

My Photo
-------
किताब और किनारे 
Image result for poetry book pics
Sudhinama 
---------
अनुपम किताबें (विधा-सेदोका) 

 Experience of Indian Life 
-------
निषादराज गुह का भेंट की 
सामग्री ले भरत के पास जाना 
 
 श्रद्धा सुमन 
--------

बीती ताहि बिसार दे 

My Photo

डायरी के पन्नों से 

--------

जीवन-पथ (चोका) 

My Photo 

लम्हों का सफ़र  

-------

आर्टिकल 15 : 

संविधान, सच और सिनेमा : 

 संदीप नाईक 

11 comments:

  1. बहुत सुन्दर चित्रमयी चर्चा।
    आपका आभार अनीता सैनी जी।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर शनिवारीय प्रस्तुति के साथ 'उलूक' के पन्ने का भी जिक्र करने के लिये आभार अनीता जी।

    ReplyDelete
  3. शुभ प्रभात...
    आभार...
    सादर..

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  5. वाह!!प्रिय सखी , शानदार चर्चा !!मेरी रचना को स्थान देने हेतु हृदयतल से आभार ।

    ReplyDelete
  6. अनीता जी का चयन और उनका प्रस्तुतीकरण सदैव प्रशंसनीय होता है ! बहुत सुन्दर आज का अंक ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार अनीता जी ! सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  7. आपका तहे दिल से शुक्रिया और आभार !

    ReplyDelete
  8. सुंदर लिंक संयोजन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मिलित करने का आभार
    सादर

    ReplyDelete
  9. सुन्दर संकलन सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  10. अति सुंदर संकलन सभी रचनाएँ एक से बढ़ कर एक हैं।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।