Monday, July 15, 2019

"कुछ नया होना भी नहीं है" (चर्चा अंक- 3397)

सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--
--
--
--
--

पत्थर :  

दस क्षणिकाएं 

1.
जो संवेदनाएं नहीं होती 
पत्थरों में 
चिंगारी नहीं फूटी होती 
इनके घर्षण से 
न ही जन्म लेती आग।  
2... 
रोकार पर अरुण चन्द्र रॉय 
--
--

आँसू 

tHe Missed Beat पर dr.zafar
--

वर्षों हुए दिल को टटोले 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा  

5 comments:

  1. सुप्रभात,
    सादर नमस्कार।

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात सर 🙏)
    सुन्दर चर्चा प्रस्तुति 👌
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सोमवारीय चर्चा में 'उलूक' के पन्ने को भी जगह देने के लिये आभार आदरणीय।

    ReplyDelete
  4. सुप्रभात, रिमझिम वर्षा के इस मौसम में पढ़ने के लिए बहुत कुछ परोसती आज की चर्चा..आभार !

    ReplyDelete
  5. हमेशा की तरह सभी लिंकों को इकट्ठा कर पाठकों से जोड़ने हेतु अनेकों शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।