Saturday, July 20, 2019

"गोरी का शृंगार" (चर्चा अंक- 3402)

स्नेहिल  अभिवादन  
शनिवारीय चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है| 
देखिये मेरी पसन्द की कुछ रचनाओं के लिंक | 
 - अनीता सैनी 
-------

दोहे 

"गोरी का शृंगार" 

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

 उच्चारण 

---------

चंदन का झूला.... 

My Photo
उलूक टाइम्स 
---------

कालजयी कवि!!! 

My Photo
-------
एक ग़ज़ल बना दूं 

मन की वीणा - कुसुम कोठारी। 
---------

क्या छोडूं और क्या बांधू 

 "पलाश" 
---------

एहसास है मुझे 

My Photo
--------

6 comments:

  1. शुभ प्रभात..
    आभार सखी..
    सादर..

    ReplyDelete
  2. आज की खूबसूरत प्रस्तुति में 'उलूक' को भी जगह देने के लिये आभार अनीता जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा।
    आभार आपका अनीता सैनी जी।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंंदर प्रस्तुति है अनु..विविधापूर्ण रचनाओं का बढ़िया संकलन है मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत आभार, सस्नेह शुक्रिया।

    ReplyDelete
  5. सतरंगी छटाओं की आभा बिखेरता मनमोहक संकलन।

    ReplyDelete
  6. सुंदर चर्चा प्रस्तुति मेरी रचना को चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार अनिता जी

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।