Followers

Wednesday, September 18, 2019

"मोदी स्वयं सुबूत" (चर्चा अंक- 3462)

मित्रों!
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--
--

जी 

 जी कहने में लगे हैं संतरी  
जी जी कहने में लगें हैं मंत्री  
हम ही जो कहने लगे जी  
जी आपको क्यों हुई नाराजगी... 
सरोकार पर अरुण चन्द्र रॉय 
--

विश्व ओज़ोन दिवस या  

ओज़ोन परत संरक्षण दिवस 

यह बड़ी ही चिंता का विषय है कि ओज़ोन परत में ओज़ोन गैस की मात्रा कम हो रही है। इसका मुख्य कारण हम ही हैं। हम लगातार प्रकृति और पर्यावरण का दोहन कर रहे हैं। जंगलों और पेड़-पौधों की अंधाधुंध कटाई कर रहे हैं। हमने प्रकृति का दोहन करके पूरे तंत्र यानी मनुष्य और प्रकृतिवायुमंडल के बीच एक असंतुलन की स्थिति पैदा कर दी है।  गाड़ियों और उद्योगों से विसर्जित गैस आदि ने हवा को प्रदूषित कर दिया है। इससे ओज़ोन की मात्रा घटती है। परिणामस्वरूप पृथ्वी पर बड़े संकट के बादल मंडरा रहे हैं... 
मनोज पर मनोज कुमार 
--
--
--
--
--

उपहार 

मन के पाखी पर Sweta sinha  

--
--
राज़-ए -दिल 
रे राज़-ए -दिल सेहरा-ए -ज़िन्दगी में महफूज़ रहे,
मैं रेत पे लिखती रही, हवाएं मिटाती रहीं।
कोई समझे भी क्यों मेरे दिल की बात,
मैं ही तो हमेशा हसरतें-ए -दिल सबसे छिपाती रही... 
--
--
--

8 comments:

  1. सुप्रभात
    मेरी रचना आज शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  2. बहुत शानदार प्रस्तुति सभी लिंक लाजवाब है।सभी रचनाकारों को बधाई।

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन प्रस्तुति आदरणीय
    मुझे स्थान देने के लिए तहे दिल से आभार आप का
    सादर

    ReplyDelete
  4. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. मेरी रचना को मंच पर स्थान देने के लिए बहुत धन्यवाद आदरणीय।
    सादर
    भावना सक्सैना

    ReplyDelete
  7. सुप्रभात
    उम्दा संकलन लिंक्स का |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  8. उम्दा लिंकों से सजा लाजवाब चर्चा मंच...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।