Followers

Friday, June 22, 2018

"सारे नम्बरदार" (चर्चा अंक-3009)

मित्रों! 
शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--
--
--

आज..... 

सुचेतना मुखोपाध्याय 

सुबह खोल रही है,  
अपना लिफ़ाफ़ा हौले से।  
गली से निकल रहे हैं लोग,  
वही कल के काम पर।  
उड़ते हुए परिंदों की चोंचों में,  
वही तिनके हैं कल से।  
फूलों ने पंखुड़ी बिछाई है  
आसमां तलक़  
रोज़ की तरह... 
yashoda Agrawal 
--
--

मुस्लिम बहुल इलाके  

मिनी पाकिस्तान का रुप ले चुके हैं ,  

यह तो सच है 

ओला और एयरटेल के मार्फत जो मामले सामने आए हैं , वह दुर्भाग्यपूर्ण ज़रुर हैं पर सच हैं । मुसलमानों ने अपनी छवि ही ऐसी बना ली है । मुस्लिम बहुल इलाके मिनी पाकिस्तान का रुप ले चुके हैं , इस से अगर कोई इंकार करता है तो वह न सिर्फ़ अंधा है बल्कि मनबढ़ है और कुतर्की भी । अगर यकीन न हो तो किसी भी मुस्लिम बहुल इलाक़े में रहने वाले इक्का दुक्का नान मुस्लिम से बात कर लीजिए । हकीकत पता चल जाएगी । और जो कोई नया सेक्यूलर है और प्याज खाने का बड़ा शौक़ीन है तो उसे बाकायदा चैलेंज देता हूं कि सौ प्रतिशत मुस्लिम बहुल इलाके में ज़मीन या मकान खरीद कर दिखा दे ... 
Dayanand Pandey 
--

करती हूँ आह्वाहन मै 

डॉ. अपर्णा त्रिपाठी  
--
--
--

Wednesday, June 20, 2018

"क्या होता है प्यार" (चर्चा अंक-3007)

सुधि पाठकों!
बुधवार की चर्चा में 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

दोहे  

"क्या होता है प्यार"  

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--

बनावटें हुज़ूर की.....  

ख़याल बेबहर 

वाणी गीत 
--

शब्द से ख़ामोशी तक –  

अनकहा मन का (१५) 

सु-मन (Suman Kapoor)  
--

यहाँ सब के सर पे सलीब है 

Alaknanda Singh 
मैंने पिता को साइकिल चलाकर  
दफ्तर से लौटते हुए ही देखा,  
कब जाते ?  
ध्यान ही नहीं दिया ... 
Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar   
--

रोज़ियों पर तेरी रज़ा क्या है 

नाम   दिल  से   तेरा  हटा   क्या  है ।
पूछते    लोग   माजरा    क्या    है ।।

नफ़रतें     और      बेसबब     दंगे ।
आपने  मुल्क को  दिया   क्या  है... 
Naveen Mani Tripathi  
--

देखना जिस दिन मै चला जाऊंगा 

देखना जिस दिन मै चला जाऊंगा  
लौट कर फिर कभी नहीं आऊँगा... 
Mukesh Srivastava  
--

यह क्या किया ? 

हकीकत से कब तक दूरी
उससे मुंह मोड़ा
क्या यह है  सही ?
अंतर मन से सोचना फिर कहना
है यह कहाँ की ईमानदारी
जब मन चाहा खेला  
फिर उससे मुंह फेरा
जिन्दगी के चार दिन
उस पर लुटाए
 बाद में मन भर गया
 तब लौट कर न देखा... 
Akanksha पर Asha Saxena  
--

एटलस साईकिल पर योग-  

यात्रा भाग ९:  

सिंदखेड़ राजा- मेहकर 

Niranjan Welankar  
--

पहली बरसात 

प्यार पर Rewa tibrewal  
--

अंकुर फूटेगा एक दिन पुनः.. 

सुमित जैन 

yashoda Agrawal  
--

आखिर, बात क्या थी? 

Muktamandla Agra  

"सारे नम्बरदार" (चर्चा अंक-3009)

मित्रों!  शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -...