Followers

Monday, December 31, 2018

"जाने वाला साल" (चर्चा अंक-3202)

मित्रों! 
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
--
--

हमराही 

Akanksha पर 
Asha Saxena 
--

नववर्ष की मंगलकामना 

गूँथ कर माला प्रेम कीले हाथ में रोली चन्दन । 
नववर्ष के अवसर परप्रिय आपका अभिनंदन।।... 
Lovely life पर 
lovely edu 
--
--
--

हम में, तुम में फर्क बहुत है 

यूँ तो अपना फर्ज बहुत है  
पर छुपने को तर्क बहुत है  
तुम इस रस्ते, हम उस रस्ते  
हम में, तुम में फर्क बहुत है... 
मनोरमा पर श्यामल सुमन 
--
--

आसमानी ऊनी शाल 

सम्हाल कर रखा है  
तुम्हारे वादों का दिया हुआ  
ब्राउन रंग का मफलर  
बांध लेता हूँ जब कभी कान में  
फुसफुसाकर कहती है ठंड कि,  
आज बहुत ठंड है... 
Jyoti Khare  
--
--

Sunday, December 30, 2018

"नये साल की दस्तक" (चर्चा अंक-3201)

मित्रों! 
रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
--
--

नदी का खामोश हो जाना 

वह निकली ही अकेली थी  
वह पिघली भी अकेली थी... 
Mera avyakta पर  
-राम किशोर उपाध्याय 
--
--
--
--
--
--
--
--
--

Saturday, December 29, 2018

"शुभ हो नूतन साल" (चर्चा अंक-3200)

मित्रों! 
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
--

अश्रु नीर.....दीपा जोशी 

मेरी धरोहर पर yashoda Agrawal  
--

हम❤तुम 

प्यार पर 
Rewa tibrewal  
--
--
--

छुअन 


Sudhinama पर 
sadhana vaid  
--
--

है संघर्षरत यह जीवन 

सुख दुख की लहरों पर 
अक्सर लड़खड़ाती है 
जीवन नैया... 

Ocean of Bliss पर 
Rekha Joshi 
--

एक ग़ज़ल :  

इधर आना नहीं ज़ाहिद-- 

इधर आना नहीं ज़ाहिद , इधर रिन्दों की बस्ती है  
तुम्हारी कौन सुनता है ,यहाँ अपनी ही मस्ती है  
भले हैं या बुरे हैं हम ,कि जो भी हैं ,या जैसे भी  
हमारी अपनी दुनिया है हमारी अपनी हस्ती है... 
आपका ब्लॉग पर आनन्द पाठक  
--
--

TIME 

noopuram