Followers

Saturday, May 11, 2019

" हर दिन माँ के नाम " (चर्चा अंक- 3332)

स्नेहिल  अभिवादन  
शनिवारीय चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है| 
देखिये मेरी पसन्द की कुछ रचनाओं के लिंक | 

मातृ दिवस यानी मदर्स डे  

(Mother’s Day) .... और शायरी 

Dr Varsha Singh at 
ग़ज़लयात्रा GHAZALYATRA 
----

शैक्षणिक उपलब्धि का 

नया चलन 500/500 

VMW Team at VMW Team 
-----

गुलमोहर

My Photo
शुभा at 
अभिव्यक्ति 
----

माँ,  

तुलसी और गुलमोहर …  

My Photo
सदा at SADA
-----

यज्ञ सदियों तक चले, 

 जडबुद्धि अभ्युत्थान में -सतीश सक्सेना 

Satish Saxena at मेरे गीत ! 
-----

एक गीत-फूलते कनेरों में 

 

जयकृष्ण राय तुषार at
 छान्दसिक अनुगायन 
----

जब मुस्काता  

है गुलमोहर 

My Photo
Abhilasha at 
 Experience of Indian Life 
------

मानवता की रक्त शिराएं 

 हमारी नदियां 

My Photo
-------

सबद भेद : 

 बेवतनी से बदवतनी तक : 

 बलवन्त कौर 

arun dev at समालोचन 
-----

लिखना जरूरी है होना उनकी मजबूरी है 

 कभी लिखने की दुकान के नहीं  

बिके सामन पर भी लिख 

My Photo
सुशील कुमार जोशी at 
 उलूक टाइम्स 
-------

"हँसता गाता बचपन की भूमिका"  

(डॉ.राष्ट्रबन्धु) 

मुझे सन् 2011 में अपनी द्वितीय बालकृति “हँसता गाता बचपन” की भूमिका डॉ. राष्ट्र बन्धु ने फोन पर बोलकर लिखवाई थी। बाल साहित्य के भीष्मपितामह डॉ. राष्ट्र बन्धु को भावभीनी श्रद्धाञ्जलि के रूप में प्रस्तुत कर रहा हूँ।
भूमिका  (डॉ.राष्ट्रबन्धु)
     डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक की लेखनी कविताओं के साथ-साथ बाल साहित्य में भी समान रूप से चलती है।मुझे इनकी पहली कृति नन्हे सुमन भी देखने का सौभाग्य मिला है और आज मुझे इनकी दूसरी बाल कृति हँसता गाता बचपन की भूमिका लिखने का अवसर मिला है।
    हँसता गाता बचपन भी नन्हे सुमन की ही भाँति श्रेष्ठ और आशाप्रद है। इसमें शास्त्रीयता की दृष्टि से छन्दों, रसों और वैज्ञानिकता का परिपालन किया गया है। जिससे उनके लेखन से आशाएँ उभरती हैं। आधुनिक विषयों पर मयंक जी अपनी लेखनी का जादू हमेशा शब्दों के माध्यम से बिखेरते हैं। मेरे विचार से इनके द्वारा वेबकैमपर हिन्दी में प्रकाशित पहली बाल रचना है...
-------

गुलमोहर बन मुस्कुराये

My Photo 

Anita saini at गूँगी गुड़िया
------ 

15 comments:

  1. उपयोगी लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा।
    आभार अनीता सैनी जी।
    --
    मातृ दिवस पर शक्ति-स्वरूपा माँ को नमन।

    ReplyDelete
  2. सुंदर और सराहनीय लिंकों का सुरूचिपूर्ण चयन , बहुत सुंदर अंक है आज का प्रिय अनीता..।

    ReplyDelete
  3. आभार अनीता जी आज की सुन्दर चर्चा में 'उलूक' को भी जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  4. बहुत-बहुत धन्यवाद प्रिय सखी अनीता जी ,मेरी रचना को चर्चा मंच मेंं स्थान देने हेतु । सभी रचनाएँ बहुत ही उम्दा ।

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत आभार अनिता जी, सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन लिंक्स एवम प्रस्तुति ... आभार आपका

    ReplyDelete
  7. सुन्दर सराहनीय संकलन बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर सराहनीय प्रयास अत्यधिक उपयोगी लिंकों संयोजन

    ReplyDelete
  10. आप हमेशा बहुत ही अच्छा चयन करती हैं... साधुवाद 🙏
    मेरी पोस्ट को शामिल करने हेतु हार्दिक आभार !!!

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार प्रिय सखी अनीता।

    ReplyDelete
  12. आदरनीय अनीता जी आपका हृदय से आभार |

    ReplyDelete
  13. This is Very very nice article. Everyone should read. Thanks for sharing. Don't miss WORLD'S BEST

    CarStuntsGame

    ReplyDelete
  14. Always check your package styles to be sure they can fit the item they're defending and shipping. A good common concept for safety is 2" about all products. custom keepsake boxes custom boxes shipping custom boxes retail quick custom boxes custom boxes shipping custom boxes cheap custom velvet boxes custom boxes cheap custom boxes bulk custom ecommerce boxes

    ReplyDelete
  15. Потрясающе красивые, а также невероятно точнейшие онлайн гадания для предречения нашего ближайшего будущего, это исключительно то, что вы увидите на нашем сайте. Гадание любима ли я мужчиной оказывается действенным быстрым и простым инструментом для извлечения важных сведений из эфирного поля земли.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।