Followers

Tuesday, February 14, 2017

बापू को कंधा दिया, बस्ता धरा उतार-; चर्चामंच 2593


बापू को कंधा दिया, बस्ता धरा उतार-

रविकर 
चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, बैठे हैं

तितली भ्रमर समेत, भरेंगे रंग फरिश्ते-

रविकर 

महके पल...

Sushil Bakliwal 

वाह-वाह तेरा ख़ुदा !

डॉ. कौशलेन्द्रम 

फिर वही गुलाबो की महक.. फिर वही माह-ए-फरवरी है... !!!

Sushma Verma 

Travel to Neil Island, Natural bridge, Laxmanpur sunset beach नील द्वीप की शान कुदरती पुल व लक्ष्मणपुर बीच पर सूर्यास्त

SANDEEP PANWAR 

पथ मिले प्रयाण के

udaya veer singh 

मुश्किल में मुसलमान- बीएसपी का मुसलमान चुनें या अखिलेश-राहुल का साथ

HARSHVARDHAN TRIPATHI 

गीत "मौसम आया प्यारा है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

(पुस्तक) 'कथाकारों की दुनिया' : अनुक्रम

ऋषभ देव शर्मा 

सूरज तू....

anamika ghatak 

कार्टून :- मद्रास सर्कस

Kajal Kumar 

फागुन.... संजय वर्मा 'दृष्ट‍ि'

yashoda Agrawal 

बाइक यात्रा: रामदेवरा - बीकानेर - राजगढ़ - दिल्ली

नीरज जाट 

बालकविता "सबके प्यारे बन जाओगे" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति रविकर जी ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...