साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Tuesday, February 28, 2017

भली करेंगे राम, भाग्य की चाभी थामे-; चर्चामंच 2599


भली करेंगे राम, भाग्य की चाभी थामे-

रविकर 

जिन्दगी

रविकर 

चाहत ...

Digamber Naswa 

एंड डाटर्स

Gopesh Jaswal 

तू नहीं होता है तो कौन वहाँ होता है

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 

Mount harriet National park माऊँट हैरिएट नेशनल पार्क

SANDEEP PANWAR 

'चर्चित' को फिर 'मुन्ना' करते...

विशाल चर्चित 

ख्वाब है दीवाने का....फानी बदायूनी

yashoda Agrawal 

नोटबंदी भी एक कसौटी है

pramod joshi 

...तुम कितने मच्छर मारोगे हर घर से मच्छर निकलेगा?

haresh Kumar 

जन्म दिन का जश्न न मनने की खुशी

noreply@blogger.com (विष्णु बैरागी) 

नज़र तुम आती हो

Sushant shankar 

मनमर्जी - लघुकथा

ऋता शेखर 'मधु' 

दोहे "सर्दी गयी सिधार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

बलम तुम निकले पानी के बोल्ला।

PAWAN VIJAY 

न किसी से नफरत है न किसी से मुहब्बत है

Prem Farukhabadi 

प्रेम व श्रृंगार गीत संग्रह ---डा श्याम गुप्त...

shyam Gupta 

गीत "पछुआ पश्चिम से है आई" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

6 comments:

  1. सुन्दर चर्चा
    आभार आदरणीय रविकर जी

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सूत्र ... आभार मुझे भी शामिल करने का ...

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चर्चा रविकर जी।

    ReplyDelete
  5. बहुत बधिया चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आरती उतार लो, आ गया बसन्त है" (चर्चा अंक-2856)

सुधि पाठकों! आप सबको बसन्तपञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। -- सोमवार की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (र...