Followers

Tuesday, January 10, 2017

इमाम ने मोदी के खिलाफ जारी किया 'फतवा / 'चर्चामंच; 2578

"कुछ कहना है"

व्यस्त वयस्क / तनाव ग्रस्त।।

देना हठ दरबान को, अहंकार कर पार्क |
छोड़ व्यस्तता कार में, फुरसत पे टिक-मार्क |

फुरसत पर टिक-मार्क, उलझने छोड़ो नीचे |
लिफ्ट करो उत्साह, भरोसा रिश्ते सींचे |
करो गैलरी पार, साँस लंबी भर लेना |
प्रिया खौलती द्वार, प्यार से झप्पी देना ||

बालकविता "तितली रानी कितनी सुन्दर" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 
Image result for तितली
मन को बहुत लुभाने वाली,
तितली रानी कितनी सुन्दर।
भरा हुआ इसके पंखों में,
रंगों का है एक समन्दर।।

ग़ज़ल "रूप उनको गुलाम करते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

Baratang's lime stone cave बाराटाँग की चूना पत्थर से बनी गुफा

SANDEEP PANWAR 

गुमराह...........ममता भारद्वाज

yashoda Agrawal 

ओरछा महामिलन का शानदार आगाज

मुकेश पाण्डेय चन्दन 

किसकी नैया पार लगेगी ,किसकी डूबेगी

विनोद कुमार पांडेय 

कोलकाता : इमाम ने मोदी के खिलाफ जारी किया 'फतवा'

chandan bhati 

लोहे का घर-25

देवेन्द्र पाण्डेय 

शुरु हो गया मौसम होने का भ्रम अन्धों के हाथों और बटेरों के फंसने की आदत को लेकर

सुशील कुमार जोशी 

परमात्मा, सृष्टि और मोक्ष रहस्य

rajeev Kulshrestha 

डाकघरों और बैंकों के एटीएम आपस में जुड़े, डाकघरों के बचतखाता धारकों में एटीएम की मांग तेजी से बढ़ी

Krishna Kumar Yadav 

बेटियां

Manoj Nautiyal 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी आपकी ये बातें हजम नहीं हुई

haresh Kumar 

साइंस की उपेक्षा मत कीजिए

pramod joshi 

जनजातियों को मुख्यधारा में नहीं उन्हें मुख्यधारा मानकर हो विकासः प्रो. शुक्ल

noreply@blogger.com (संजीव तिवारी) 

कार्टून :- ले और खाएगा बि‍ना सर्वि‍स-चार्ज वाला खाना ?

Kajal Kumar 

6 comments:

  1. पठनीय लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।।

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात
    आभार दिनेश भैय्या
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रविकर अंक । आभार 'उलूक' के सूत्र 'शुरु हो गया मौसम होने का भ्रम अन्धों के हाथों और बटेरों के फंसने की आदत को लेकर' को जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचनाएं।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...