Followers

Thursday, April 13, 2017

चर्चा - 2618

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
चलते हैं चर्चा की ओर 

खेतों में बिरुओं पर जब, बालियाँ सुहानी आती हैं।
जनमानस के अन्तस में तब, आशाएँ मुस्काती हैं।।

सोंधी-सोंधी महक उड़ रही, गाँवों के गलियारों में,
खुशियों की भरमार हो रही, आँगन में, चौबारों में,
बैसाखी आने पर रौनक, चेहरों पर आ जाती हैं।
जनमानस के अन्तस में तब, आशाएँ मुस्काती हैं...
Related image

8 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आज की प्रस्तुति देखकर
    दिल बाग बाग हो गया
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. उम्दा लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सार्थक सूत्र ! मेरी रचना, 'तुम्हीं से मिलने का बस इंतज़ार रखते हैं', को आज की चर्चा में स्थान देने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार दिलबाग जी !

    ReplyDelete
  4. सुन्दर गुरुवारीय अंक। आभार दिलबाग जी 'उलूक' के सूत्र को भी स्थान देने के लिये।

    ReplyDelete

  5. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. चर्चामंच की प्रविष्टियाँ देख कर अच्छा लगता है.
    यहाँ पर हिंदीसक्सेस डॉट कॉम की प्रविष्टियाँ न देखकर ऐसा लगता है जैसे ब्लागर मित्रों ने hindisuccess.com को पढना बंद कर दिया है.

    ReplyDelete
  7. बढ़िया लिंक्स....

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...