Followers

Sunday, December 27, 2009

थू है ऐसे सिस्टम पर और थू है ऐसी तरक्की पर! ( चर्चा मंच)

चर्चाकार-ललित शर्मा

छत्तीसगढ़िया के राम-राम जय जोहार, नारायण दत्त तिवारी के मसले पर ब्लॉग जगत भी काफी सक्रिय दिखा रहा है. किसी को इनके कृत्य पर विश्वास हो रहा है, तो किसी को विश्वास नहीं हो रहा, कोई बहुत ज्यादा मुखर है और कोई बोलना नहीं चाहता लेकिन अपना विरोध दर्ज करवा रहा है. लेकिन जो हुआ गलत हुआ. राजभवन के भीतर स्टिंग आपरेशन होना अवश्य ही किसी षड़यंत्र की ओर इशारा करता, खैर होई वही जेहि राम रची रखा. हम चलते हैं आज कि चर्चा पर........

अशोक पाण्डेय जी बता रहे है कृष्णावतार की अलौकिक लीलाओं के विषय में कबाड़खाना पर

कलजुगी औतारी उर्फ़ नौछम्मी नरैण पर्वतपुत्र विकासपुरुष के नाम से ब्रह्माण्ड में ख्यात एक देवतुल्य राजनेता उर्फ़ नौछम्मी नरैण एक बार पुनः अपने अन्तःपुर में गोपियों के साथ पाए गए. पता नहीं इतना बावेला काहे मचा पड़ा है. उत्तराख्ण्ड में तो हर कोई कृष्णावतार की अलौकिक लीलाओं से वाकिफ़ है ही...

धीरू सिंह जी बता रहे हैं एक युवा के विषय में, आप भी देखिये इन्हें

युवा युवा आज चारो तरफ से एक ही आवाज़ आ रही है युवा ही देश को बचा और चला सकते है . इसलिए युवा की परिभाषा और खुद को युवा साबित कराने के लिए युवाचित हरकते कर रहे है अपने ८५ साल के बूढ़े क्षमा करे ८५ साल के जवान युवा नारायण दत्त तिवारी


85 साल के तिवारी .... सेक्स के शहंशाह ( कुछ पुरानी बात)
साल के तिवारी .... सेक्स के शहंशाह ( कुछ पुरानी बात) 85 साल के एन डी तिवारी तीन जवान लड़कियों के साथ एक स्टिंग आपरेशन में पकडे गए.. कहा जा रहा है तीनो लड़किया देहरादून से आंध्र प्रदेश के राजभवन लायी गयी थी .. जो औरत उन्हे लायी थी उस को तिवारीजी से ....

"86 वर्षीय बूढ़े-बरगद पर ऐसा गन्दा आरोप ?" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")
पं. नारायण दत्त तिवारी विलक्षण प्रतिभा के धनी हैं। कुछ तो शर्म करो!आज समाचार पत्रों मे और नेट पर पं. नारायण दत्त तिवारी के बारे में पढ़ा तो बहुत ही दुःख हुआ। 86 वर्षीय एक बूढ़ा व्यक्ति सेक्स सकैण्डल के घेरे में। कितना अप्रतियाशित लगता है यह। पं. नारायण दत्त तिवारी पर तो आरोप शुरू से ही लगते रहे हैं। कभी हवाला मे लिप्त होने के, कभी सेक्स मे फँसे रहने केऔर हद तो जब हो गयी कि एक युवक ने अपने को तिवारी जी का नाजायज पुत्र ही कह दिया। लेकिन हर बार माननीय तिवारी जी ससम्मान दोष-मुक्त हुए हैं।अख़बार वालों को तो मसाला न्यूज मिलनी चाहिए चाहे उसमें सत्यता हो या न हो।

खबर की चीरफाड़ कर रहे हैं एस.एन. विनोद देखिये क्या निकलता है पोस्टमार्टम में
बेशर्म तिवारी का यह कैसा महिमामंडन! नारायण दत्त तिवारी के राज्यपाल पद से इस्तीफे पर आश्चर्य नहीं। आश्चर्य तो कांग्रेस की ओर से इस्तीफे के स्वागत पर है। कांग्रेस को ेफख्र है कि तिवारी ने इस्तीफा देकर मिसाल कायम की है, एक आदर्श पेश किया है। शाबाश! अगर तिवारी इस्तीफा नहीं देते तब क्या ....

एक खुल पत्र लिखा है कुलवंत हैप्पी ने एन.डी. तिवारी के नाम युवा सोच युवा ख्यालात पर आप भी पढ़िए एनडी तिवारी के नाम खुला पत्र भारत का मीडिया रूसी मीडिया से बहुत अलग है। अब तक इस बात का अहसास तो श्रीमान नारायण दत्त तिवारी जी आपको हो ही गया होगा। भारतीय मीडिया ऐसी खबरों के लिए तो उतावला रहता है, वैसे तो आप भी कम नहीं हैं, सुर्खियां बटोरने के लिए क्या क्या हथकंडे नहीं अपनाते।

नारायण दत्त तिवारी का इस्तीफा यह नाराण दत्त तिवारी का मामला मेरी समझ के परे है। ताजा समाचार के अनुसार, उन्होंने अपना त्यागपत्र दे दिया है। ८६ की आयु में क्या कोई मर्द ऐसी मर्दानगी का प्रदर्शन कर सकता है? एक नहीं, दो नहीं बल्कि तीन तीन महिलाओं के साथ बिस्तर पर लेटे लेटे...सरकार पर और दबाव डालने के लिए क्या यह किसी की साजिश है? क्या कोइ राज भवन जैसी सुरक्षित स्थान में ही घुसकर ऐसा स्टिंग ऑपरेशन कर सकता है? तिवारी जी एक जाने माने और अनुभवी राजनैतिक भी हैं।


अनिल पुसदकर जी कह रहे हैं अमीर धरती गरीब लोग पर


थू है ऐसे सिस्टम पर और थू है ऐसी तरक्की पर!कभी अमन और चैन का टापू कहलाने वाले छत्तीसगढ को शायद किसी की बुरी नज़र लग गई है।जभी तो राजधानी के थोक कपड़ा मार्केट के पास दिन दहाड़े हवाला कारोबारी अमर आहूजा की उसकी दुकान मे घुस कर गोली मार कर ह्त्या कर दी गई।उसके साथ उसके रिश्तेदार मनीष की भी हत्या कर दी हत्यारों ने और मज़े से दुकान से नीचे उतर कर फ़रार हो गये।इस दिल दहला देने वाले अपराध ने बहुत से सवाल खड़े कर दिये हैं।कहा जा रहा है तरक्की के इस दौर मे अपराध तो होंगे ही।अगर तरक्की का मतलब ऐसे अपराध है तो थू है ऐसे सिस्टम पर और थू है ऐसी तरक्की पर!
रवि रतलामी जी रचनाकार पर बता रहे हैं.


प्रविष्टि क्रमांक - 39) (महत्वपूर्ण सूचना : पुरस्कारों में इजाफ़ा – अब रु. 10,000/- से अधिक के पुरस्कार! प्रतियोगिता की अंतिम तिथि 31 दिसम्बर 2009 निकट ही है. अत: अपने व्यंग्य जल्द से जल्द प्रतियोगिता के लिए भेजें. व्यंग्य हेतु नियम व अधिक जानकारी के......
डॉ. आशुतोष शुक्ल जी सीधी खरी बात.. पर बता रहे हैं जाना तिवारी का ...सार्वजनिक जीवन में सब कुछ पाने के बाद इस तरह के जीवन की कल्पना से कोई भी सिहर सकता है पर नारायण दत्त तिवारी जैसे कद का नेता जब इस तरह की मानसिक बीमारी से पीड़ित हो जाये तो इसे क्या कहा जा सकता है ? निश्चित तौर पर यह एक मानसिक बीमारी ही है पर इसका इलाज.........
डॉ. दराल अंतर्मंथन पर शादियों के बारे में सवाल उठा रहे हैं. देखिये एक बानगी


दुनिया क्या कहेगी --क्या सोचेगी ----?? कुछ नहीं कहेगी, कुछ नहीं सोचेगी --- शादियों के बारे में उठे दो सवाल :१. क्या शादियों में फिजूलखर्ची और दिखावा जायज़ है ?२. क्या बिना दान-दहेज़ के शादियाँ हो सकती हैं ? करीब ५०० से ज्यादा मित्रों ने पढ़ा इन दो पोस्ट्स को और ६० दोस्तों ने अपने विचार खुल कर रखे। मैं इसे ब्लॉग जगत की एक उपलब्धि समझता हूँ। इस के लिए आप सब बधाई के पात्र हैं।

अब चलते हैं एक लाईना पर


दिनेश राय दिवेदी जी बता रहे हैं अब हुई छुट्टियाँ शुरू अनवरत पर




प्रतिभा जी कह रही हैं चाँद से दोस्ती प्रतिभा की दुनिया ...!!! पर


नवीन प्रकाश जी को उनके ब्लॉग Hindi Tech Blog की और ये 400 वी पोस्ट पोस्ट पर हार्दिक शुभकामनाएं


आज का कार्टून देखते हैं

सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट) द्वारा CARTOON DHAMAKA -
*जय भारत ......* ******************************** ********************************
सबको जय जोहार अब कल मिलते हैं नए चिट्ठों और नयी चर्चा के साथ चर्चा मंच पर

11 comments:

  1. नारायणदत्त की ये तिवारी नुमा चिट्ठाचर्चा बहुत बढिया लगी

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और रोचक चर्चा ........
    वाह ! वाह !
    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  3. ्रोचक चर्चा है धन्यवाद्

    ReplyDelete
  4. चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।
    आज का हॉट टोपिक तो तिवारी जी ही रहे।
    भगवान् सबको सद्बुद्धि दे।

    ReplyDelete
  5. आज की ये चर्चा तो पूरी तरह से श्रीमान तिवारी जी को समर्पित रही.......

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा..आज ही मैंने एक ब्लॉग चर्चा वाले ब्लॉग़ पर एक सुझाव छोड़ा था कि कुछ नया लाओ...लेकिन आपने तो काम कर दिया..बहुत शानदार यत्न है..

    ReplyDelete
  7. बढिया और सुंदर चर्चा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर चर्चा करे हस महराज!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...