Followers

Tuesday, June 06, 2017

रविकर शिक्षा में नकल, देगा मिटा वजूद-चर्चामंच 2541


रविकर शिक्षा में नकल, देगा मिटा वजूद-रविकर 
 "कुछ कहना है" 
करे नहीं परमाणु बम, राष्ट्र नेस्तनाबूद।रविकर शिक्षा में नकल, देगा मिटा वजूद।देगा मिटा वजूद, भवन-पुल गिरे भरभरा।अर्थ-न्याय-विधि आदि, व्यवस्था जाय चरमरा।हो यदि शिक्षा ध्वस्त, राष्ट्र फिर कैसे निखरे।मानवता मर जाय, कसे फिर दुनिया फिकरे । 
--
दोहे "पर्यावरण बचाइए" 
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 
किताबों की दुनिया - 128/2नीरज गोस्वामी  

रात ग़ालिब तिलमिलाया देर तक.....श्रीमती आशा शैली 

yashoda Agrawal 

गुम थे हम 

अनुपमा पाठक 


--

' प्रेम' 

Neena Shail 

मोदी-डिप्लोमेसी का राउंड-2 

pramod joshi 

कांग्रेस और पाकिस्तान की भाषा एक कैसे? 

Lokendra Singh 

पुस्तक -ईशोपनिषद का काव्य भावानुवाद 

--ईशोपनिषद के द्वितीय मन्त्र ....के 

द्वितीय भाग...का काव्य भावानुवाद 

-डा श्याम गुप्त ----- 

दुनियाभर में आतंकियों की फंडिंग सऊदी अरब करता है,  

आतंक को खत्म करना है तो उसे हर हाल में रोकना होगा 

haresh Kumar 

यह महामृत्युंजय मंत्र ऋगवेद से उत्पन्न है। 

इसके उच्चारण मात्र से मृत्यु का भय हर जाता है। 

मोक्ष प्राप्ति का मार्ग भी यह मंत्र सरल कर देता है। 

महामृत्युंजय के मन्त्र का जाप १ ० ८ बार करने से 

इच्छित फल प्राप्ति होती है।

Virendra Kumar Sharma 

5 comments:

  1. शुभ प्रभात....
    उत्तम रचनाएँ
    आभार..
    सादर

    ReplyDelete
  2. पठनीय लिंकों के साथ। सुन्दर रंग-बिरंगी चर्चा।
    आपका आभार रविकर जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति में मेरी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...