समर्थक

Tuesday, March 10, 2015

"सपना अधूरा ही रह जायेगा ?" {चर्चा अंक-1913}

मित्रों!
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देकिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

"दोहे-अब जम्मू-कश्मीर की, 

ध्वस्त करो सरकार" 

...अपने निर्णय पर करो, मोदी पुनः विचार।
अब जम्मू-कश्मीर की, ध्वस्त करो सरकार।८।
--
जल्दी से कर दीजिए, इस शासन का अन्त।
देशद्रोह का मुकदमा, दायर करो तुरन्त।९।
--

क्या है प्रेम का सच ... 

पूछता हूँ अपने आप से ... 
क्या प्रेम रहा है हर वक़्त ... 
या इसके आवरण के पीछे छुपी रहती है 
शैतानी सोच ... 
स्वप्न मेरे ...पर Digamber Naswa 
--
--
--

क्या हुक्म है मेरे आका... 

अक्सर सोचती हूँ 
किस ग्रह से मैं आई हूँ 
जिसका ठिकाना 
न कोख़ में 
न घर में 
न गाँव शहर में  
मुमकिन है 
उस ख़ुदा के घर में भी नहीं 
अन्यथा क्रूरता के इस जंगल में 
बार-बार मुझे भेजा न गया होता ... 
डॉ. जेन्नी शबनम 
--

मुस्कुरा जाती हूँ 

मुस्कुरा जाती हूँ ,जब तुम

अहंकार में भरकर

मुझे पुकारते हो अबला । 

क्या सिर्फ इसलिए

किमैं कोमल हूँ ... 

Chitransh soul पर 
durga prasad Mathur 
--
वसंत तो हर साल 
इतराता,इठलाता हुआ आता है.
पर कभी जाते हुए वसंत का 
बौरायापन देखा है... 
देहात पर राजीव कुमार झा 
--

फिर कभी पूछ लेना - - 

अग्निशिखा : पर SHANTANU SANYAL 
 शांतनु सान्याल * শান্তনু সান্যাল 
--
--

शीर्षकहीन 

पिछले कई दिनों से सभी पत्र -पत्रिकाओं में 'महिला दिवस' से संबंधित लेखों की भरमार है। इनका होना जायज भी है। बहुत सी सलाह ,बहुत सारे उपदेश ,हमें क्या-क्या करना चाहिए और क्या नहीं,मुफ्त में बैठे ठाले ही हमें मिल जाते है... 
--
--
जिसकी कोख में सपने पलते हैं 

सृष्टि के पाँव मचलते हैं 
वो माँ है 
वो बहन है 
वो बेटी है 
वो पत्नी है 
वो प्रेमिका है 
वो अबला नारी नहीं 
वो सब पर भारी है... 
My Expression पर 
--
--
--
--

अच्छा ही है ... 

...कुछ पढ़ना समझना 
याद रखना भूल जाना 
इन अनोखी राहों पर 
जो भी है 
अच्छा ही है... 
Yashwant Yash 
--

प्रीत मेरी सफल रही होगी 

ज़िंदगी फिर बहल रही होगी 
जान मेरी निकल रही होगी . 
चाह कर तुम चले गये साजन 
ज़िंदगी आज खल रही होगी ..  
Ocean of Bliss पर 
Rekha Joshi 
--
--
--

7 comments:

  1. habut sundar links .....thanks n aabhar ....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर चर्चा सूत्र.
    'देहात' से मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  3. आदरणीय शास्त्री साहब आपको प्रणाम, सभी सुन्दर प्रस्तुतियों से सजे चर्चा अंक के सभी लिंक सुन्दर हैं एवं मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका ह्रदय से आभार ।

    ReplyDelete
  4. maaf kijiyegaa aaj rachnaon ko bina padhe hi badhiya bataa raha hoon ! kanhi jaana hai , jaldi main hoon ! aapke chunav par mujhe vishwaas hai ! mere blog par jo rachna mere mitr punya prsunn wajpeyi ji ki rachna ko aapne sthaan diya hai uske liye aabhaar or dhanywaad !

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा सूत्र ...
    शुक्रिया मुझे भी इस चर्चा में शामिल करने का ...

    ReplyDelete
  6. सुंदर चर्चा । आभार 'उलूक' का सूत्र 'महिला के लिये कुछ करना नहीं है ' को स्थान दिया ।

    ReplyDelete
  7. बेहद प्रेरणादायक कड़ियाँ जोड़ीं इस चर्चा मंच में शास्त्री जी | बहुत बहुत बधाई और मेरी रचना को शामिल करने के लिए साधुवाद, आभार, धन्यवाद | सभी ब्लॉगर मित्रों को बधाई | जय हो - मंगलमय हो - हर हर महादेव - शम्भू |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin