Followers

Saturday, March 28, 2015

"जहां पेड़ है वहाँ घर है" {चर्चा - 1931}

मित्रों।
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
प्रस्तुत हैं कुछ ब्लॉगों की 
अद्यतन पोस्टों के लिंक
--
खेत में खडी फसल के लिए चित्र परिणाम
Akanksha पर Asha Saxena 
--
--

तुकबंदी जरूरी है । 

ये ना समझें मजबूरी है, 
तुकबंदी जरूरी है । 
आ से आ तुक मिले न मिले 
ई से ई भी भले न मिले 
किन्तु मिले तुक भावों का 
मिले तुक अनुभावों का... 
प्रवेश कुमार सिंह 
--
--

मौसम हसीन कई आते जाते रहे 

मौसम हसीन कई आते जाते रहे 
सालों की कमायी दिनों में गँवाते रहे है। 
रिवाज़ वो मिट गया जमीदारी का भले 
कर सरकार को फिर भी चुकाते रहे...  
बुलबुला पर Vikram Pratap singh 
--

तुझको देख यहाँ हँस रहा हूँ ज़रूर  

तुझको देख यहाँ.........हँस रहा हूँ ज़रूर,
तुझपे मरता हूँ.......ये न समझना हजूर |
.
मैं हूँ खुदगर्ज़ भी........मतलबी भी बहुत,
इल्तिजा अर्थी संग.....मेरी चलना ज़रूर ...
Harash Mahajan 
--

Deewan 79 Nazn 

Junbishen पर Munkir 
--
--
--
--
--
--

खप्ती... 

(लघुकथा) 

मेरे मन की पर अर्चना चावजी 
--

क्रिकेट टीम 

[ कुण्डलिया ] 

बसता क्रिकेट टीम के ,दिल में हिंदुस्तान 
मोहित,अश्विन देश की , बढ़ा रहे हैं शान... 
गुज़ारिश पर सरिता भाटिया 
--
--
--
--
--
--

नामो-निशां से गए ! 

आप  तो  सिर्फ़  अपनी  ज़ुबां  से  गए
रोज़   दो-चार   दहक़ान    जां  से  गए 

है  अज़ल  से  यही  इश्क़  का  क़ायदा
बदगुमां   जो  हुए,  दो - जहां  से   गए ...
Suresh Swapnil 
--

"गीत-कलम मचल जाया करती है" 

जब कोई श्यामल सी बदली,
सपनों में छाया करती है!
तब होता है जन्म गीत का,
रचना बन जाया करती है!!...

12 comments:

  1. सुप्रभात
    आज की लिंक्स में मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  2. achchhi charcha....................badhayee

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद ! मयंक जी ! मेरी रचना ''*मुक्त-मुक्तक : 684 सच............. '' को शामिल करने का ॥

    ReplyDelete
  4. चर्चा में कार्टून को भी सम्‍मि‍लि‍त करने के लि‍ए आपका आभार जी

    ReplyDelete
  5. रामनवमी की शुभकामनायें।
    रोचक चर्चा।
    मेरी रचना सम्मिलित करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  6. very nice presentation .thanks to give place to my post .

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    सभी चर्चाकारों और पाठकों को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  9. umda link sanyojan ..meri rachnao ko sthan dene ke liye haardik aabhar :)

    ReplyDelete
  10. खूबसुरत चर्चा ,रामनवमी की हार्दिक शुभकामना

    ReplyDelete
  11. शानदार चर्चा | मेरी रचना तो स्थान देने हेतु आभार और हार्दिक धन्यवाद | जय हो - मंगलमय हो

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...