Followers

Monday, March 23, 2015

"नवजीवन का सन्देश नवसंवत्सर" (चर्चा - 1926)

मित्रों।
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ अद्यतन लिंक।
--
--
--

हर चीज में 

प्रसन्नता खुशी पायी जा सकती है 

खुशी मतलब कि जब हम 
दिल से, आत्मा से, 
अंतरतम से प्रसन्न होते हैं, 
जिसके मिलने से 
हमारे रोयें रोयें खड़े हो जाते हैं 
और... 

मन की बात 

क्या इतना आसान है मन की बात करना... 
vandana gupta 
--
--

रफ़्तार ... 

बुलंदी का नशा 
हर नशे से गहरा होता है ... 
तरक्की की रफ़्तार 
आजू-बाजू कुछ देखने नहीं देती ... 
स्वप्न मेरे ...पर Digamber Naswa 
--
--

आपकी हिंदी सामग्री को 

कौन कहाँ से पढ़ रहा है? 

जब हिंदी ब्लॉग लेखन की शुरूआत हुई थी - कोई एक दशक पहले, तब स्मार्टफ़ोन - यानी हाई-एंड मोबाईल उपकरण नहीं थे. जनता केवल डेस्कटॉप कंप्यूटरों और लैपटॉप से ही हिंदी सामग्री का उपभोग इंटरनेट से करती थी. तब से लेकर टेक्नोलॉज़ी की गंगा में बहुत सारी नई चीज़ें बहकर आ चुकी हैं. टैबलेट और स्मार्टफ़ोन इसमें शामिल हैं. दस साल पहले, 100 प्रतिशत हिंदी सामग्री कंप्यूटर, डेस्कटॉप से पढ़ी जाती थी. और अब?... 
Ravishankar Shrivastava 
--

तुम्हारे यादों जैसी..... 

मेरी डायरी के पन्नों बीच 
बरसों पड़े गुलाब की पंखुड़ियाँ 
ज्यों की त्यों हैं 
तुम्हारे यादों जैसी... 
Lovely life पर Sriram Roy 
--

साईं क्या है ? 

साईं को लेकर बहुत तू तू ,मैं मैं हो चूका है l जहाँ वसुधैव कुटुम्बकम की बात की जाती है वहाँ इस प्रकार की बातें हजम नहीं होती !वास्तव में यह वर्चस्य की लड़ाई है... 
कालीपद "प्रसाद" 
--

अपने एंड्राइड मोबाइल को 

अनलॉक करे 

आप अपने एंड्राइड मोबाइल का पैटर्न भूल गए हैं तो यह पोस्ट आपके लिए है अब आपको अपना मोबाइल को अनलॉक कराने के लिए शॉप पर जाने की जरूरत नहीं है। अब आप अपने फ़ोन को घर बैठे अनलॉक कर सकते हैं। इसके लिए आप सबसे पहले अपने मोबाइल को शटडाउन करे अगर जरूरत पड़े तो बैटरी निकालकार शटडाउन करे। जब मोबाइल शटडाउन हो जाये तब आप अपने मोबाइल में VOLUME UP +POWER BUTTON तब तक दबाते रहे जब तक की डाटा रिकवरी की स्क्रीन न आ जाये इसके बाद आप डाटा रेस्टोरेशन के आप्शन पर यस करे। कुछ देर बाद आपकी स्क्रीन नार्मल हो जाएगी और आपका फ़ोन अनलॉक हो जायेगा... 
Hindi Pc Duniya पर 
Darshan jangra 
--

आँसुओ मजहब बताओ 

आँसुओ मजहब बताओ कुछ केशरिया से आँसू हैं तो कुछ आँसू हरे हरे से हैं कुछ वामपंथ के आँसू सुर्ख लहू जैसे कुछ पूंजीवादी आँसू हैं, कुछ अवसरवादी आँसू है यहाँ हर हड़ताली की आँखों में घड़ियाली से आंसू हैं कुछ सरकारी आँसू हैं विछोहों की विवशता से बिलखती आँख के आँसू बहू की मौत पर पाखण्ड करती सास के आँसू वास्तविक आँसू आँख में अक्सर चुपचाप रहते हैं... 
Shabd Setu पर 
RAJIV CHATURVEDI 
--

फिर कोई कहानी 

यूं ही कभी पर राजीव कुमार झा 
--
--

आशान्वित मन 

आशाओं से संचारित मन,
करने की कुछ चाह हृदय में ।
स्वप्नों से कुछ दूर अवस्थित, 
अब जीवन को पाया हमने ।।१।।

स्थिर है मन संकल्पों में,
लगा विकल्पों का भ्रम छटने ।
वर्षों से श्रमहीन रही जो, 
संचित शक्ति उमड़ती मन में ।।२।।... 
प्रवीण पाण्डेय 
--

माँ का आवाहन.. 

डा श्याम गुप्त .. 

परम-शक्ति माँ से बढकर तो, 
तीन लोक में कुछ भी नहीं, 
अतुलनीय माँ महिमा तेरी, 
वर्णन की मेरी शक्ति नहीं... 
--

नव संवत्सर-----  

डा श्याम गुप्त ... 

सृष्टि रचयिता ने किया, सृष्टि सृजन प्रारम्भ | 
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से, संवत्सर आरम्भ || 
ऋतु बसंत मदमा रही, पीताम्बर को ओढ़ | 
हरियाली साड़ी पहन, धरती हुई विभोर... 
--

प्रेम से नाराजगी कैसी.... 

जब प्रेम हो वट वृक्ष सा...
नयी उड़ान + पर Upasna Siag 
--
--

एक कल्पना: 

तुम्हारी याद 

तुम्हारी याद जब भी दस्तक देती है 
तो लगता है कि 
मानों वर्षो से बन्द पड़े घर का 
कोई सीकचा आज ही खुला हो 
और धूप छन-छन कर 
मेरे पास आने को आतुर है ... 
बुलबुला पर Vikram Pratap singh 
--
--

जीवंत कर लो ज़िंदगी 

मन की आँखों को खोल कर देखों 
मंडरा रही आस पास तुम्हारे 
रंग बिरंगी तितलियाँ 
मत बांधों तुम अपने को 
सफेद काले बंधन में... 
Ocean of Bliss पर 
Rekha Joshi 
--

14 comments:

  1. नव संवत्सर की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  2. rup ki suhaani dhup dhal chuki hai.......great Sirji....

    ReplyDelete
  3. अच्छा प्रयास है!

    ReplyDelete
  4. बढ़िया लिंक्स-सह-चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  5. Aaj ki post me muje acha laga -
    Mobile ko kaise unlock kare bina password or man ki baat cartoon.

    Internet Ki Puri Jaankari Hindi Me www.HindiMeHelp.com Par.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर चर्चा सूत्र.
    मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर सूत्र ...
    नव वर्ष की हार्दिक बधाई ... आभार मुझे शामिल करने का इस चर्चा में ...

    ReplyDelete
  8. सुंदर सूत्र संकलन, सुंदर चर्चा...बधाई

    ReplyDelete
  9. सुंदर चर्चा , मुझे शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  10. बेहद सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  11. शहीद दिवस पर वीरता के प्रतिमूर्तियों को नमन।
    आज की चर्चा उनके नाम होनी चाहिए थी।
    सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  12. Agar ap vi apna Website Bana na cahe to niche di gaye link par click kare Website Kaise banaye

    ReplyDelete
  13. सुन्दर चर्चा मंच नव वर्ष की बधाई

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...