चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, March 11, 2015

तुलसी की दिव्य दृष्टि, विनम्रता और उक्ति वैचित्र्य ; चर्चा मंच 1914



6 comments:

  1. सार्थक लिंकों के साथ उपयोगी चर्चा।
    आपका आभार रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. सुंदर बुधवारीय अंक । आभार रविकर जी 'उलूक' के सूत्र 'नहीं लिखा जाता है तो क्यों लिखने चला आता है' को स्थान देने के लिये ।

    ReplyDelete
  3. विविध विषयों पर महत्वपूर्ण जानकारी देते सूत्रों से सजा चर्चा मंच..बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  4. सुन्दर लिनक्स से सुसज्जित सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  5. सुन्दर लिंक्स और उम्दा चर्चा |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सर |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin