Followers

Sunday, February 25, 2018

"आदमी कब बनोगे" (चर्चा अंक-2892)

मित्रों!
रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--

हे केजरीवाल तुम गधा से  

आदमी कब बनोगे.. 

हे केजरीवाल तुम गधा से आदमी कब बनोगो.. (डिस्क्लेमर:- यह एक व्यंग रचना है और यह पूरी तरह से काल्पनिक, मनगढ़ंत और एक गधा के द्वारा ही लिखा गया है। इसका किसी भी राजनीतिक व्यक्ति, पार्टी अथवा समर्थक से कोई सरोकार नहीं है... 
चौथाखंभा पर ARUN SATHI  
--

प्रेम रस 

Sudha's insights  
--
--
--
--
--
--

साँझ हो गई 

Sudhinama पर 
sadhana vaid  
--
--
--

क्षणिकाएं 

1: 
पहचान यूँ तो उनसे हमारी जान पहचान बरसों की है पर....  
फिर लगता है कि क्या उन्हें सचमुच जानते हैं हम 
2:... 
Sudha's insights  
--

5 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभर
    सादर

    ReplyDelete
  2. ताज़गी भरा चर्चामंच ! मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर सुप्रभात !

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रविवारीय चर्चा।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. सुंदर रविवारीय चर्चा. मेरी रचनाओं को स्थान मिला, मन अति प्रसन्न है. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय शास्त्री जी सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"उफ यह मौसम गर्मीं का" (चर्चा अंक-2982)

मित्रों!  शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...