साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Saturday, April 02, 2016

"फर्ज और कर्ज" (चर्चा अंक-2300)

दो हजार तीन सौवीं (2300वीं) पोस्ट 
मित्रों!
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
सबसे पहले एक जरूरी सूचना। 


--

--

मूर्खता 

 मूर्खता जब निकलती है बाहर 
सनक और गंभीरता के अबूझ आवरण से 
तब बन जाती है कारण औरों के हास्य... 
जो मेरा मन कहे पर Yashwant Yash 
--
--

मूर्ख दिवस पर 

"मुखपोथी को देख" 

...भले चलाओ फेसबुक, ओ ब्लॉगिंग के सन्त।
मगर ब्लॉग का क्षेत्र वो, जिसका आदि न अन्त।।

पहले लिक्खो ब्लॉग में, रचनाएँ-आलेख।
ब्लॉगिंग के पश्चात ही, मुखपोथी को देख।।
--
--

आरज़ू 

Akanksha पर Asha Saxena 
--
--
--
--
--

रूह मरती नहीं 

Image result for रूह
मधुर गुंजन पर ऋता शेखर मधु 
--
--
--
--
--

एक गीत -शहर फूस के 

तितलियाँ खुशबू भी है लेकिन मन में गीत नहीं है |  
जो हँसता -रोता हो संग -संग शायद ऐसा मीत नहीं है... 
जयकृष्ण राय तुषार 
--
--

दुआओं में प्यार 

हम हैं तो आस्मां है ज़मीं है बहार है 
हम हैं तो नज़्रे-हुस्न में शामिल ख़ुमार है... 
साझा आसमान पर Suresh Swapnil  
--
--
--
--
--

Job interview की रणनीति 

TLMOM 
--

चलो गुर तुम्हे लिखने के सिखा देती हूँ....!!! 

 तुम कागज़ कलम ले के,  
साथ बैठो तो मेरे,  
मैं एहसास तुम्हे,  
जीने के बता देती हूँ..  
चलो गुर तुम्हे लिखने के सिखा देती हूँ... 
'आहुति' पर Sushma Verma  
--

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आरती उतार लो, आ गया बसन्त है" (चर्चा अंक-2856)

सुधि पाठकों! आप सबको बसन्तपञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। -- सोमवार की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (र...