Followers

Monday, April 11, 2016

"मयंक की पुस्तकों का विमोचन-खटीमा में हुआ राष्ट्रीय दोहाकारों का समागम और सम्मान" "चर्चा अंक 2309"

मित्रों
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
--
आज देखिए बहुत थोड़े से लिंक
--

एक कहानी 

तमाशा-ए-जिंदगी पर Tushar Rastogi  
--

जब नाम रोशन होगा तेरा 

संग संग तेरे मेरी माँ रात भर मै सोई नहीं 
तकिए पे गिरते आँसू तेरे 
भिगो गये तन मन मेरा 
अपनों के ताने सुन सुन ज़ख़्मी हुआ 
आज हम दोनों का मन मत ... 
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi  
--

ये हँसी ....... 

झरोख़ा पर निवेदिता श्रीवास्तव 
--

ख़्वाबों के परे कहीं - - 

अग्निशिखा : पर Shantanu Sanyal 
--
--
--
--

गीत : 42 -  

क्या किसी भूले हुए..... 

क्या किसी भूले हुए ग़म की याद आने लगी ? 
हँसते - हँसते हुए क्यूँ आँख छलछलाने लगी ... 
--
--
--
--
--
--
--

कुछ पल 

Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar 
--

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...