Followers

Sunday, January 23, 2011

रविवासरीय चर्चा :: २३.०१.२०११

नमस्कार मित्रों! कल शाम चर्चा करते करते कुछ ज़रूरी उलझनों से चर्चा पूर्ण नहीं कर सका, इसलिए क्षमायाचना सहित अधूरी चर्चा पेश कर रहा हूं।

My Photo१. Rajiv की चाहत

तुम तक जाना है मुझे ::

जहाँ चलते हैं / लू के बेरहम थपेड़े / गर्म हवाओं में बहता है / पानी का भरम.
मेरा फोटो२. पं.डी.के.शर्मा"वत्स" लेकर आए हैं

भोजन द्वारा स्वास्थय (सात्विक आहार) :: कहते हैं कि इन्सान को सदैव सात्विक आहार का सेवन करना चाहिए, क्योंकि प्राकृतिक नियम के अनुसार मानव का भोजन फलाहार और शाकाहार ही है.जो कि शारीरिक निरोगता, शक्तिवर्द्धन और दीर्घायुष्य जैसी सतोगुणी शक्तियों की प्राप्ति का एकमात्र स्त्रोत है.

३. Kusum Thakur सुना रही हैं विद्यापति गीत ( कनक भूधर ) :: कवि कोकिल विद्यापति मिथिला के घर घर में अब भी अपनी रचनाओं के माध्यम से बसे हैं . ऐसा कोई भी शुभ कार्य  नहीं जहाँ विद्यापति की रचनाओं को ना गाया जाता हो . शुभ कार्यों में भगवती या देवी स्तुति तो आवश्यक है . मिथिला वासी शिव शक्ति की पूजा करते हैं  और हर शुभ  कार्य का प्रारंभ देवी की स्तुति से होता है .
मेरा फोटो४. वन्दना अवस्थी दुबे का मन है कि पढी हुई कहानी सुन भी लें..... :: कहानी सुनवाने की इच्छा को, वरिष्ठ जनों के आग्रह ने और हवा दी. असल में ये सब एक साजिश है, आपको दोबारा कहानी झेलवाने की :) चलिये, सुन ही लीजिये, इस कहानी का प्रसारण दो साल पहले आकाशवाणी से हुआ था!!!!
AIbEiAIAAAAjCNut-8ux2cTvmQEQroWd49T5ifTRARjUjdXGmbLy8pwBMAFkA3w0g-7cypY8vgzrpx6GNnUxZQ५. कुमार राधारमण बता रहे हैं पोलियो उन्मूलनःलक्ष्य और उपलब्धियां :: यह आमजन के लिए अत्यंत चिंता का कारण हो सकता है कि पोलियो पर हमारे देश का ३.८५ करोड़ रुपए प्रतिदिन का खर्च जो प्रतिवर्ष १४०० करोड़ रुपए होता है, को बचा कर देश के अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रमों में खर्च कर सकेंगे।
My Photo६. शिक्षामित्र बता रहे हैं पढ़ाई पर छिड़ी लड़ाई :: इस तरह के टकराव की शुरुआत दिल्ली में तो हो भी चुकी है। दिल्ली में निजी स्कूलों में २५ प्रतिशत सीटें गरीब परिवारों के बच्चों के लिए के आरक्षित करने के सवाल पर दिल्ली सरकार और निजी स्कूलों के संचालकों में ठन गई है।
७. Rangnath Singh बता रहे हैं पश्चिम से हम क्या सीख सकते हैं ? – 3 :: किसी प्रगतिशील समाज का सबसे महत्वपूर्ण गुण उन लोगों के प्रति सम्मान है,जिन्होंने उससे ज्यादा उपलब्धि हासिल की है,और उनसे सीखने की इच्छा है। इसके विपरीत,हमारे नेता हमें विश्वास दिलाते हैं कि दूसरे समाज ऐसा कुछ नहीं जानते जो अपनाने लायक हो।
मेरा फोटो८. चला बिहारी ब्लॉगर बनने की सज़ा :: सजा के तौरपर उनका तबादला इलाहाबाद कर दिया गया, सिर्फ एक महीना के लिये. एक महीना के बाद फिर से कानपुर में बहाली. इलाहाबादमें उनको कोई काम नहीं दिया गया. सिर्फ बईठकर एक महीना का बेतन मिलना था उनको.
मेरा फोटो9. पवन *चंदन* ऐलान करते हैं हिन्दी का प्रयोग न करने को देश में क्राइम घोषित कर दिया जाना चाहिए :: इस समाचार को ब्‍लॉगहित में कहीं भी प्रकाशित किया जा सकता है।
मेरा फोटो१०. विरेन्द्र सिंह चौहान का पूछना है आखिर क्यों? ::

'दिल्ली मेट्रो' की.....

एक स्वागत योग्य शुरुआत.....

उन लोगों के लिए.....    / एक 'मुसीबत' बन गई है! / जो 'दूसरों के अधिकारों' की...

कभी परवाह नहीं करते!
My Photo११. Ana का कहना है

मै नारी हूँ .... ::

अपने अस्तित्व  को ढूँढती हुई

दूर चली जाती हूँ

मै नारी हूँ ....

अस्मिता को बचाते  हुए

धरती में समा जाती हूँ !
12. Satish Chandra Satyarthi की

३८वी समांतर रेखा (कोरियन नो मिलिट्री ज़ोन) की यात्रा :: ३८वी समांतर रेखा को उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच की आधिकारिक सीमा मान लिया गया. दोनों को अलग-अलग स्वंत्र देश माना गया. सीमा रेखा पर ४ किलोमीटर चौड़ा और लगभग २५० किमी लंबा एक बफर ज़ोन बनाया गया और फैसला किया गया कि इस क्षेत्र में कोइ भी सेना प्रवेश नहीं करेगी. इसे ही कोरियाई डीएमजेड (Demilitarized Zone) कहा गया.
My Photo१३. पी.सी.गोदियाल "परचेत" का अग्नि-पथ ! ::

शिक्षित समझता श्रेष्ठतर है,विलायती बोलकर, बहु-राष्ट्रीय कम्पनियां नीर भी, बेचती तोलकर, देश-संस्कृति दूषित कर रहा,पश्चमी परिवेश है, गणतंत्र बेशक बन गया, स्वतंत्र होना शेष है!!
१४.

20 comments:

  1. सुन्दर चर्चा ...........

    ReplyDelete
  2. संक्षिप्त लेकिन उपयोगी चर्चा ..आभार

    ReplyDelete
  3. उपयोगी चर्चा ,आभार

    ReplyDelete
  4. सुन्दर, संक्षिप्त, उपयोगी चर्चा ..आभार !

    ReplyDelete
  5. sare links achchhe hai ............abhar

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा..

    ReplyDelete
  7. छोटी पर सुन्दर उपयोगी चर्चा.,

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा....

    ReplyDelete
  9. भाषा,शिक्षा और रोज़गार ब्लॉग का आभार स्वीकार किया जाए।

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  11. सार्थक चर्चा -अच्छे लिंक्स .आभार

    ReplyDelete
  12. संक्षिप्‍त पर महत्‍वपूर्ण पोस्‍ट समेटती चर्चा .. आभार !!

    ReplyDelete
  13. बहुत सटीक व् व्यवस्थित चर्चा .आभार .

    ReplyDelete
  14. सारगर्भित पोस्टों की चर्चा करने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुंदर और विस्तृत चर्चा । शुभकामनाएं


    संडे सन्नाट चर्चा

    ReplyDelete
  16. मनोज जी उलझन ने आपको कितना भी परेशान किया हो पर आपने चर्चा बहुत साफ़ सुथरी और सुलझी की है .. अपने ब्रोड बेंड की गडबडी की वजह से मेरा कार्य स्लो हो गया है.. और नेट पर काम नहीं हो पा रहा है.. अतः देरी के हुवी... किन्तु कहते है देर आई पर दुरस्त आई .. और अच्छे लिंक मिले..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...