Followers

Saturday, January 08, 2011

"ठंड से न घबराएं" (चर्चा मंच-393)


 कल खटीमा मं ब्लॉगर मीट के साथ-साथ 
मेरी दो पुस्तकों का भी विमोचन है!
समय कम है और व्यस्तता अधिक है!
चर्चा मंच पर केवल औपचारिकता ही
निभा रहा हूँ!
देखिए मेरी पसंद के कुछ लिंक!
-------------
-------------
-------------
-----------------
------------------
-------------
------------
----------------
------------
---------------
--------------
---------------
--------------
बामुलाहिजा >> 
Cartoon by Kirtish Bhatt www.bamulahija.com
--------------
लाखों के घर के इर्द - गिर्द -जानलेवा बम लगे हैं ! 
बम को फटना है हर हाल में , परखचे किसके होंगे -कौन जाने ! 
ओह !
गला सूख रहा है .............
------------------------
---------------------
इक खुबसूरत सी दुआ 'आरज़ू' दिल से निकलती सदा 'आरज़ू' जेहन में जब हो मौसमे-सहरा होती है रंगीन ये फिजा 'आरज़ू' निशाँ ना रहे तीरगी का यहाँ पे हो जब सहर...
-----------------
------
लेकिन मुझसे करता प्यार! -----
--------------------
--------------------
-------------------
---------------------
*बहुत दिनों से यह एक छोटी - सी कविता मेरे संग्रह में पड़ी थी। 
कई बार मन हुआ कि इसके अनुवाद पर काम करूँ 
लेकिन अक्सर ऐसा हुआ कि एक काम को छोड़ दूसरे काम म...

11 comments:

  1. शास्त्री जी नमस्ते |आपका कल का प्रोग्राम बहुत अच्छा रहे ऐसी इश्वर से कामना है |नई पुस्तकों के होने वाले विमोचन के लिए अग्रिम बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  2. इतनी व्यस्तता के बावज़ूद भी मंच को सजाना आपके समर्पण और निष्ठा की मिसाल ही है।
    मंच पर हमें और हमारे ब्लॉग्स को स्थान देने के लिए आभार! कल के मिलन एवं विमोचन समरोह की सफलता की ईश्वर से कामना है। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    फ़ुरसत में आचार्य जानकीवल्लभ शास्त्री के साथ

    ReplyDelete
  3. इतनी व्यस्तता के बावजूद अपने कर्तव्य को निभाना कोई आपसे सीखे…………कल का कार्यक्रम सबसे सफ़ल कार्यक्रम सिद्ध हो यही कामना करती हूँ। आपको पुस्तको के विमोचन पर हार्दिक शुभकामनाय।

    ReplyDelete
  4. आपकी काम के प्रति निष्ठा हम सब के लिये एक आदर्श स्थापित करती है
    हमारी रचना को मंच पर लाने का शुक्रिया
    कल के कार्यक्रम की सफलता के लिये हमारी शुभकामनाये

    ReplyDelete
  5. अच्छी चर्चा अच्छे लिंक्स , शास्त्री जी को उनकी किताब के लिये मुबारकबाद , और आज के विमोचन समारोह की सफ़लता के लिये शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  6. ब्लॉगर मीट हेतु ढेर शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  7. thhand se to ghabrana hi padta hai ...sarthak charcha .books opening v blogger meet ki hardik shubhkamnaye .

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया चर्चा की हैं . पुस्तकों के विमोचन के लिए और ब्लागर्स मीट के लिए बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं ... समयचक्र की पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  10. बेहद उपयोगी चर्चा.आभार.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...