साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Saturday, March 03, 2012

चर्चामंच - 807

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है
आदरणीय डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री जी आज व्यस्त थे, इसलिए चर्चा का दायित्व मुझ पर है
सबसे पहले देश से संबंधित समाचार 

आकाश मिसाइल आज शामिल हो रही है वायुसेना में 
अब चलिए चर्चा की और 
Gandhi_0016
अपमान का घूँट 
ज़िन्दगी…एक खामोश सफ़र
 
मेरा फोटो
रूपरेखा चित्र

15 comments:

  1. जिम्मेदारी के प्रती, रहते विर्क सचेत ।

    पूरी निष्ठां से तुरत, चर्चा हैं कर देत ।

    चर्चा हैं कर देत, लिंक सुन्दर सब साजे ।

    होली का मृदंग, नगाड़े ढोलक बाजे ।

    रविकर कहता मित्र, जमेगी अपनी यारी ।

    कई उकेरे चित्र, निभाई जिम्मेदारी ।।

    ReplyDelete
  2. बहत अच्छे लिंकों की चर्चा की है!

    1 ब्लॉग सबका

    ReplyDelete
  3. बहुत रोचक और पठनीय लिंकों को प्रस्तुत किया है आपने आज की चर्चा में।
    आभार!

    ReplyDelete
  4. badhiya charcha ...
    http://jadibutishop.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. उत्तम लिंक्स |बधाई विर्क जी अच्छी चर्चा के लिए |
    आशा

    ReplyDelete
  6. बहुत शानदार और रोचक चर्चा ...

    ReplyDelete
  7. बढ़िया चर्चा..
    लिंक्स कुछ ही देखे हैं... अच्छे लगे...शेष पर अब नज़र डालते हैं..
    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  8. बड़े सुन्दर सूत्र संजोये हैं आपने..

    ReplyDelete
  9. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर लिंक्स के सार्थ सार्थक चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  11. सुंदर लिंक्स चयन।

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी चर्चा,
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार

    भूले सब सब शिकवे गिले,भूले सभी मलाल
    होली पर हम सब मिले खेले खूब गुलाल,
    खेले खूब गुलाल, रंग की हो बरसातें
    नफरत को बिसराय, प्यार की दे सौगाते,

    NEW POST...फिर से आई होली...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"जीवित हुआ बसन्त" (चर्चा अंक-2857)

मित्रों! मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- &...