समर्थक

Tuesday, March 06, 2012

चर्चामंच ८११ :खूबसूरत

आज के युग में जब हम सबकी सम्वेदनाओं का स्वर्गवास?  हो चूका है तब हमारी  खूबसूरत त्योहारों की परम्परा का त्यौहार  होली अब नजदीक है, तो आईये इस दिन सभी अपनी अपनी शिकायत  दूर कर रंगों कि फुहार  में डूब जाते हैं साथ ही  जान लेते हैं होली का मनोवैज्ञानिक दर्शन जिसमे कविजन खोज रहे अमराई



साथ परिवार के सभी सदस्यों को होली की शुभकामनाएँ, मिलते हैं अगले हफ्ते . 

सादर कमल 

11 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा , होलिकोत्सव की बधाई .

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा!
    कम शब्दों में चमत्कार।
    नमस्कार!
    रंगों की बहार!
    छींटे और बौछार!!
    फुहार ही फुहार!!!
    रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ!!!!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चर्चा और होली की शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  4. इन्द्रधनुषी प्रस्तुति |

    होली है होलो हुलस, हुल्लड़ हुन हुल्लास।
    कामयाब काया किलक, होय पूर्ण सब आस ।।

    ReplyDelete
  5. होली की शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा ..
    होलिकोत्सव की बधाई .

    ReplyDelete
  7. सुंदर प्रस्तुति अच्छी चर्चा,..

    होली की बहुत२ बधाई शुभकामनाए...

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...रंग रंगीली होली आई,

    ReplyDelete
  8. अच्छी और सार्थक चर्चा |होली पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  9. चर्चा मंच परिवार व चर्चा मंच के पाठकों को होली की हार्दिक शुभकामनयें!

    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  10. बेहद खूबसूरत रंगमयी प्रस्तुति………… होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  11. आपको सपरिवार होली की शुभकामनायें !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin