Followers

Thursday, March 29, 2012

ब्लैकमेलिंग (चर्चा - 833 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
नेट बार-बार डिस्कनेक्ट हो रहा है पता नहीं कितने लिंक दे पाऊँगा 
सीधे चलता हूँ चर्चा की ओर 

ब्लैकमेलिंग

मौसम ने ली है अंगडाई 

हाँ मैं कृष्ण ----

तिनके का दर्द
My Photo
बेटी बचाओ
My Photo
सूखा गुलाब

कुछ हाइगा 

नकल का अधिकार 
image
गीले नयन कोर 

तिब्बत की आग
excessive
अज्ञेय नहीं समीर 

वो रूठ जाते हैं बेवजह 

भूमिका 

अपना घर 

वोडाफोन का कुत्ता  

मैं की परिभाषा

ढंग से जुतियाओ  

ट्रिक और टिप्स 
मिशन लन्दन ओलंपिक हॉकी गोल्ड
हाकी का जूनून 

दादा-दादी फूले नहीं समाए 

गूगल क्रोम एवं नोट पैड 

फितरत 

मैं आकाश हूँ

कोइराला से रोका तक 


धन्यवाद 
दिलबाग विर्क 

19 comments:

  1. दिल बाग बाग़ हो गया भाई जी ||
    बाधाओं के बीच
    दी एक बड़ी रेखा खींच ||
    बधाई ||

    ReplyDelete
  2. नेट की आँखमिचौली के साथ आपने तो बहुत शानदार चर्चा की है।
    आपका आभार भाई दिलबाग जी!

    ReplyDelete
  3. चित्र समेत लिंक देने से सब आँखों के सामने गुजरता गया।

    ReplyDelete
  4. बढ़िया लिंक्स संकलन ...
    बधाई एवं शुभकामनायें ....!!

    ReplyDelete
  5. नेट ने बेशक सताया हो....
    मगर हमारी कविता का लिंक तो आ गया ..
    :-)
    आपका बहुत शुक्रिया दिलबाग जी.
    बाकी के लिंक्स अब देखते हैं.
    अनु

    ReplyDelete
  6. चित्रों के साथ लिंकों की अच्छी प्रस्तुति,..

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: तुम्हारा चेहरा,

    ReplyDelete
  7. अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत ही बढि़या लिंक्‍स का संयोजन किया है आपने ...

    ReplyDelete
  9. सभी लिंक्स बहुत सुन्दर है...सुन्दर आयोजन.

    ReplyDelete
  10. bahut sundar aur susanyojit charcha.

    ReplyDelete
  11. sarthak links se saji charcha .MISSION LONDON ko shamil karne hetu hardik aabhar

    ReplyDelete
  12. सताते नेट के बावजूद अच्छी चर्चा....
    सादर आभार.

    ReplyDelete
  13. बढि़या लिंक्‍स
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  14. bahut badiya charcha prastuti..
    aabhar!

    ReplyDelete
  15. बढ़िया चर्चा के साथ ही कुछ नए ब्लॉगस के लिंक का भी संयोजन |

    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  16. सुन्दर लिंक संयोजन के लिए तथा मेरी रचना को स्थान देने लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  17. ओह्ह नेट ने सताया मगर फिर भी हम चर्चा मे थे। शुक्रिय॥ बहुत।=बहुत शुक्रिया आपका।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...