Followers

Monday, March 19, 2012

राम राम भाई! (सोमवारीय चर्चामंच-823)

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का आदाब क़ुबूल फ़रमाएं सोमवारीय चर्चामंच पर! पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक नं. 1- 
मेरे भीतर बहुत ही बुरी हालत में ठेलम-पेल करती हुई एक बदहवाश सी भीड़ -अमृता तन्मय
My Photo
मेरा फोटो
_______________
3-
ग़ज़ल शास्वत शिल्प से
अंधकार को डरा रौशनी तलाश कर,
‘मावसों की रात में चांदनी तलाश कर।
My Photo
_______________
4-
My Photo
_______________
5-
_______________
6-
मेरा फोटो
_______________
7-
मेरा फोटो
_______________
8-
जीवन के साक्षी...-अनुपमा त्रिपाठी
_______________
9-
मेरा फोटो
_______________
10-
ज्ञान दर्पण : विविध विषयों का ब्लॉग
_______________
11-
_______________
12-
_______________
13-
मेरा फोटो
_______________
14-
बेसुरम्‌
_______________
15-
_______________
16-
प्रेरक प्रसंग-28 : फ़िजूलख़र्ची
मेरा फोटो
_______________
17-
_______________
18-
_______________
19-
_______________
20-
_______________
21-
बदल जाते हैं -डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
उच्चारण
_______________
22-
_______________
और अन्त में
27-
ग़ाफ़िल की अमानत
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

29 comments:

  1. बहुआयामी लिंक्स के साथ चर्चा गाफिल जी |बढ़िया

    आशा

    ReplyDelete
  2. बहुत उम्दा चर्चा प्रस्तुति!
    आभार!

    ReplyDelete
  3. प्रभावी चर्चा गाफिल भाई |
    आभार |

    ReplyDelete
  4. लो जी जा रहा हूं आपके सुझाए लिंक देखने ☺

    ReplyDelete
  5. गाफिल जी नमस्कार ..
    विस्तृत...बहुत बढ़िया लिंक्स संयोजन ......
    आभार इन्ही उम्दा लिंक्स के बीच मेरी रचना को स्थान दिया ....!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर पुष्प -गुच्छों से सजी चर्चा प्रभावशाली व प्रशंसनीय है सफल सार्थक प्रयास ....शुभकामनायें मिश्र जी

    ReplyDelete
  7. शानदार चर्चा।
    मुझे शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर पिरोये सूत्र..

    ReplyDelete
  9. इस चर्चा की जमेदार बात यह है कि बहुत से लिंक मेरे पढ़े हुए हैं। आप अधिक पढ़ते हैं।

    ReplyDelete
  10. bahut badhiya prastuti thanks nd aabhar.

    ReplyDelete
  11. मैं लगातार चर्चा मंच पर आ रहा हूँ ... मैं गौरान्वित महसूस कर रहा हूँ ....

    ReplyDelete
  12. बहुत उम्दा प्रस्तुति!...
    मुझे शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  13. vistrit badhia charcha ...
    bahut abhar meri rachna ko sthan diya .......Ghafil ji ....
    is se pahle ki tippani kyon nahin dikh rahi hai ....?spam dekhiyega ....

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छे लिंक्स आप लाये,कितने ही हमने पढ़ें हैं ,मन भाये हैं .

    ReplyDelete
  15. आनंद का फुहार बरसाती हुई चर्चा ..आपका आभार

    ReplyDelete
  16. सार्थक एवं शानदार चर्चा ....

    ReplyDelete
  17. badhiya link sanyojan ....
    http://easybookshop.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. सुन्दर लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  19. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स का चयन किया है आपने ..आभार ।

    ReplyDelete
  20. सुन्दर चर्चा....
    सादर आभार.

    ReplyDelete
  21. वाह बहुत खूबसूरत चित्रों से सजा सुन्दर मंच आपकी मेहनत और हमारी रचना को समय - समय पर चर्चा मंच पर लाते रहने के लिए मैं आपका तहे दिल से शुक्रिया करती हू |

    ReplyDelete
  22. bahut badiya links ke sath sarthak charcha prastuti hetu aabhar!

    ReplyDelete
  23. koi yaad rakhe naa rakhe
    charcha manch yaad rakhtaa hai
    sundar links detaa hai

    ReplyDelete
  24. sundar charcha,kaee link bahut pasnd aaye,meri rachna ko bhi sthaan dene ka bahut-2shukriya....

    ReplyDelete
  25. नज़र न गई होती,तो कई लिंकों तक पहुंचना संभव न होता। आभार बंधुवर।

    ReplyDelete
  26. .

    एक बार पुनः मेरे ब्लॉग को यहां स्थान देने के लिए कृतज्ञ हूं …
    आपके माध्यम से
    शस्वरं
    तक पहुंचने वाले सभी मित्रों का स्वागत और धन्यवाद !
    पुनः आप सभी चर्चा मंच परिवार जनों के प्रति हार्दिक आभार !


    मित्रों को आमंत्रण है निम्नांकित पोस्ट पढ़ने के लिए भी

    ब्लॉगर ब्लॉग पुराण

    :)


    हार्दिक शुभकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  27. 'ek duniya prem ko'
    ko shamil karne ke liye dhanywad

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।