Followers

Tuesday, March 20, 2012

आंसू खारापन लिए हुए भी ..... ... !!! चर्चा मंच - 824

नमस्‍कार! 
ब्‍लाग परिवार से जुडे कुछ ऐसे लोगों को जो मुझसे सीधे सम्‍पर्क में हैं,  टेलीफोन में बातचीत और ई मेल के आदान प्रदान और परस्‍पर एक दूसरे के ब्‍लाग में आवाजाही के जरिए उनको मैंने अवगत कराया था पिछले दिनों कि मैं एक नए समाचार पत्र से जुडने जा रहा हूं। मैंने उनसे सम्‍पर्क कर यह बताया है कि अपने अखबार में मैं हर दिन एक पन्‍ना विविध ब्‍लाग पोस्‍टों के लिए आरक्षित रखूंगा और उस पर पारिश्रमिक की भी व्‍यवस्‍था रहेगी। इसके पीछे मेरी सोच यह है कि हम ब्‍लाग लिखते हैं और उसे वो ही लोग पढ पाते हैं जो इंटरनेट और इसमें भी ब्‍लाग से जुडे हों। सामान्‍य पाठकों तक हमारी  बात नहीं पहुंच पाती, ऐसे में आम लोगों तक ब्‍लाग पोस्‍टों की सहज उपलब्‍धता हो जाए........... मेरी इस सोच का ब्‍लाग जगत में स्‍वागत किया गया और मुझे कई ब्‍लागरों ने अपने पोस्‍ट को अखबार में प्रकाशित करने की स्‍वीकृति प्रदान की। मैं उन सभी का हृदय से आभारी हूं और चर्चा मंच के इस मंच के माध्‍यम से और लोगों से आग्रह करता हूं कि वे अपनी ब्‍लाग पोस्‍टों के लिए मुझे इजाजत देंवे। इसके लिए मेरे ई मेल पते (aattuullss@gmail.com) पर मुझे लिंक देकर अनुमति प्रदान कर सकते हैं।
इसी काम के चलते इन दिनों व्‍यस्‍तता बढी हुई है, लेकिन फिर भी कुछ समय निकालकर चर्चा मंच सजाने बैठा हूं। इस बात के लिए माफी चाहता हूं कि चर्चा मंच में अपनी पसंद के लिंक सीधे आप तक पहुंचा रहा हूं। बगैर पद्य और गद्य पोस्‍टों में भेदभाव किए................. 
सबसे पहले देश के हर दिल अजीत शायर बशीर बद्र साहब की शायरियां।  मनीष कुमार जी लेकर आए हैं बशीर साहब की शायरियां। पढिए और स‍ुनिए इसे हुसैन बंधुओं की आवाज में। 
कभी यूं भी आ मेरी आंख में, कि मेरी नजर को खबर न हो


पुरषोत्‍तम पांडे जी के शब्‍दों में पढिए मजेदार किस्‍सा रूमाल-चोर
और पढिए डा अरूणा कपूर जी के उपन्‍यास का तीसरा पन्‍ना  

उदयवीर सिंह जी हैं बडे फिक्रमंद  
तो संतोष कुमार जी लेकर आए हैं प्रवासी पक्षी !  

यशवंत माथुर जी हो रहे हैं परेशान देखकर बदलाव
अनुपमा त्रिपाठी जी उम्‍मीदों से लबरेज हैं, कारण जीवन के साक्षी ....

क्षमा जी का पुराना किस्‍सा झूठ बोले तो...!
बाबूषा जी की खास शैली में पढिए जूते

नीरज गोस्‍वामी जी के शब्‍दों में किताबों की दुनिया - 67
केवल राम जी बता रहे हैं प्रार्थना का महत्‍व चरणों में सजाए रखना

संतोष त्रिवेदी जी की गजल मोहब्बत है या तिज़ारत ?
पल्‍लवी जी का चिंतन, धारावाहिक‍ को लेकर। नाम है आमना सामना ...

आलोकिता जी के शब्‍दों में बिहार है प्रेम की निशानी, एक जादुई शहर......
माधवी शर्मा 'गुलेरी' जी की कविता पढिए आग

अनुपमा पाठक जी कहती हैं   हर 'है' को एक दिन 'था' हो जाना है...!
आ शा सक्‍सेना जी का कहना है जाना है चले जाना

सदा जी के शब्‍दों में आंसू खारापन लिए हुए भी ... !!! 


राहुल सिंह जी एक और संग्रह करने योग्‍य पोस्‍ट ताला और तुली

बतकुचनी में पढिए कहानी....जो शायद पहली बार बुनी गई

फिल्‍मों पर डा शरद सिंह जी का एक और विश्‍लेषण पाकिस्तानी औरतों के पक्ष में फिल्मों का जनमत

रूपचंद्र शास्‍त्री 'मयंक' जी का काव्‍य संग्रह धरा के रंग

आखिर में रविशंकर श्रीवास्‍तव जी की कलम से पढिए सचिन का महाशतक – कुछ ट्विटरिया थॉट्स


अब मुझे अतुल श्रीवास्‍तव   को इजाजत..... पर शुरू में की गई मेरी गुजारिश  पर गौर जरूर कीजिएगा...... मुझे अपने ई मेल में आपके जवाब का इंतजार रहेगा..... 
नमस्‍कार। 

34 comments:

  1. बढिया चर्चा

    सुबह देखूंगा लिंक्स

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर वाह!
    आप मेरे ब्लॉग 'ग़ाफ़िल की अमानत' http://cbmghafil.blogspot.com से अपनी पसन्द के पोस्ट अपने अख़बार में छाप सकते हैं हां जिस दिन छापें हमें मेल कर अवश्य अवगत करायें। आपका यह एक उम्दा और सराहनीय प्रयास है। बधाई और धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. अच्छी और बहुरंगी लिंक्स |आप मेरे ब्लॉग "आकांक्षा "
    http://akanksha-ashablog spot.com
    से मेरी रचनाएँ अपने पेपर में छाप सकते हैं
    आपका यह प्रयास सराहनीय है |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  4. अतुल जी की चर्चा का जवाब नहीं ।

    चुनी हुई सटीक

    उत्कृष्ट रचनाओं का गुलदस्ता ।।

    ReplyDelete
  5. सबसे पहले आपके नए काम की बधाई और शुभकामनाएँ !

    अच्छे लिंक ढूँढना एक हुनर है और वह बिला शक आप में है !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर और श्रमसाध्य चर्चा के लिए आपका धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. अतुल जी ...सधी हुई ...उत्कृष्ट लिंक्स चयन के साथ सुंदर चर्चा है ....आपके नए कार्य के लिए शुभकामनायें ...
    ह्रदय से आभार ...जीवन के साक्षी ...चर्चा मंच पर लेने के लिए ...!!

    ReplyDelete
  8. चर्चा मंच को विविध आयामों के साथ विभिन्न रंग -रश्मियों का प्रकीर्णन आपके समुन्नत विचारों ,भावना व निष्ठां को प्रदर्शित कर रहा है ,जो शुखद व सार्थक है प्रभावशाली संकलन व सफल प्रस्तुति ...शुभकामनायें जी /

    ReplyDelete
  9. अच्छी चर्चा , नयी जिम्मेदारी के लिए बधाई

    ReplyDelete
  10. बढ़िया चर्चा....
    सर कौन होगा जिसे नहीं छपवानी होगी अपनी रचनाएँ...??
    नेकी और पूछ-पूछ....
    :-)
    आपको मेल करती हूँ...
    सादर.

    ReplyDelete
  11. सुन्दर!
    शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  12. धन्यवाद ! आपका आभारी हूँ मेरे पोस्ट को अपने मंच पर स्थान देने के लिए. शाम में बाकी के लिंक्स पढूंगा.

    आपकी नयी जिम्मेदारी और कार्यक्षेत्र में तरक्की के लिए शुभकामनायें. आप मेरी रचनाएँ अपने अखबार में छाप सकते हैं. हो सके तो ईमेल से सूचित कर दिया करें. आपके अखबार का e-paper संस्करण उपलब्ध हो सके तो बताएं.

    अच्छे संकलन और सार्थक प्रयास के लिए फिर से धन्यवाद.

    ReplyDelete
  13. मुझे शामिल करने के लिए हार्दिक धन्यवाद सर!


    सादर

    ReplyDelete
  14. बहुत ही बढिया‍ लिंक्‍स का संयोजन ... जिनके साथ मुझे शामिल करने के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  15. Linkks me meri post ko shamil karneke liye dhanywad! Badi mehnatse links dhoondte hain aap!

    ReplyDelete
  16. Bahut badiya links ke saath sarthak charcha prastuti..
    aabhar!

    ReplyDelete
  17. bahut sundar prastuti.mere blog ki post ko aap apne nirnayanusar sthan de sakte hain main aapki aabhari rahoongi.blog link hai

    ReplyDelete
  18. mera blog link hai-http://shalinikaushik2.blogspot.com .aap is link se meri blog post ko le sakte hain.kya yahi loktantra hai

    ReplyDelete
  19. महत्वपूर्ण व रोचक संकलन के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  20. kaafi dino baad charchamanch par aana ho paya hai aakar achcha laga saare links to padh pana mumkin nahi par kuchh bahut achche links diye hain aapne
    meri blog ki charcha ke liye saadar dhanywaad

    ReplyDelete
  21. बहुत ही बढ़िया लिंक्स से सजाया है आपने आज का चर्चा मंच मेरी रचना "आमना समाना" को यहाँ स्थान देने के लिए आभार .....

    ReplyDelete
  22. नई जिम्मेदारी के लिए बधाई. बढ़िया लिंक्स हैं.

    ReplyDelete
  23. सुन्दर संकलन...
    सादर आभार.

    ReplyDelete
  24. रोचक लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  25. बहुत ही बढ़िया लिंक्स से सजी चर्चा

    ReplyDelete
  26. सुंदर लिंक्स के साथ सार्थक चर्चा।

    ReplyDelete
  27. शुक्रिया बशीर बद्र की ग़ज़ल से जुड़ी मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान देने के लिए।

    ReplyDelete
  28. रोचक लिनक्स..!
    आपको समाचारपत्र से जुड़ने पर बधाई
    www.kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  29. मेरी पोस्ट को चर्चा मंच में शामिल करके आपने जो सम्मान दिया है और उत्साहवर्द्धन किया है, उस के लिए मैं आपकी और इस मंच पर उपस्थित सभी गुणीजनों की बेहद आभारी हूं. बढ़िया लिंक्स देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  30. अतुल जी!आप के शुभ कार्य में हम साथ है!....सभी लिंक्स बहुत ही अच्छे है!...उपन्यास'कोकिला!..जो बन गई क्लोन..'की हर तीसरे दिन नई किश्त मै देने जा रही हूँ...धन्यवाद कि आपको यह कहानी अच्छी लग रही है....सामान्य पाठकों तक आप इसे जरुर पहुंचाएं!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...