Followers

Saturday, January 02, 2016

"2016 की मेरी पहली चर्चा" (चर्चा अंक-2209)

मित्रों!
नववर्ष-2016 की
मेरी प्रथम चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--

"नये साल का अभिनन्दन"

गये साल को है प्रणाम! 
है नये साल का अभिनन्दन।।
लाया हूँ स्वागत करने को
थाली में कुछ अक्षत-चन्दन।। 
है नये साल का अभिनन्दन।।..
--
--
--
--
--

चन्द माहिया :क़िस्त २६ 

नए वर्ष की प्रथम प्रस्तुति..... 
 :1: बस इतना तो कर 
माहिया आ के चुपके से
 कर दिल में घर... 
आपका ब्लॉग पर आनन्द पाठक 
--
--
--
--
--
--
--
--
--
--

'जाते हुए ये पल-छिन' 

Alpana Verma अल्पना वर्मा 
--

नववर्ष आपको मंगलमय हो 

नव-प्रभात की किरणें आई 
मन व गात में पुलकन छाई 
सद्चिन्तन में, संवेदन में 
जन-पीड़ा से द्रवित ह्रदय हो 
नव वर्ष आपको मंगलमय हो...  
--

इस सदी का सोलहवां साल ...... 

झरोख़ा पर निवेदिता श्रीवास्तव 
--
--
--

शीर्षकहीन 

शाख के बिखरे पत्तों के नीचे 
जो सुखी ज़मीन है, 
वो छुप गयी है 
पर सब को पता है कि 
अकाल आया था 
अबकी मौसम ... 
कविता-एक कोशिश पर नीलांश  
--
--

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...