साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Wednesday, December 13, 2017

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर- 

रविकर 
(1)
विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर |
पराजित शत्रु की जोरू-जमीं-जर छीन लें अकसर |
कराओ सिर कलम अपना, पढ़ो तुम अन्यथा कलमा  
जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर ||

बंद कंप्यूटर से मोबाइल चार्ज करने का तरीका 

Faiyaz Ahmad 

सीपी 

Mamta Tripathi 

दोगला :  

शब्द चिंतन ( ललित निबंध) 

ब्लॉ.ललित शर्मा 

कार्टून :- रूकाे गुजरात, अा रहा हूं मैं 

Kajal Kumar 

अत्याधुनिक, तकनीकी मेहमान-नवाज़ी 

Ravishankar Shrivastava 

जिंदगी एक दिन ... 

(लघुकथा ) 

Upasna Siag 

भगवान 

Madan kumar 

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना की राशि 

अब डाकघर के खाते में, 

आधार नंबर से करवाना होगा अपडेट -  

डाक निदेशक केके यादव 

Krishna Kumar Yadav 

लोग जलाते हैं दीपक बुझा लेते हैं आप 

udaya veer singh 

दस क्षणिकाएँ ..... 

सुशील कुमार 

yashoda Agrawal 

“Am I Depressed?”  

Treating depression symptoms, including bipolar 

and clinical depression, and seasonal affective disorder 

Virendra Kumar Sharma 

सुप्रभातम्! जय भास्करः! ७० ::  

सत्यनारायण पाण्डेय 

अनुपमा पाठक 

"मैंने सब-कुछ हार दिया है"  

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')  

5 comments:

  1. शुभ प्रभात
    क्या बात है....
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति रविकर जी।

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  4. उम्दा चर्चा रविकर जी।

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"जीवित हुआ बसन्त" (चर्चा अंक-2857)

मित्रों! मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- &...