चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, January 05, 2011

"परिक्रमा पूरी हुई" (चर्चा मंच-390)


 मित्रों!
आज देखिए कुछ व्लॉग पोस्टों के केवल शीर्षक!

आशीष जरूर मिलेंगे!

हम भी तो मुन्तजर हैं साहिब!

अद्यन समाचारों से अवगत कराते रहिएगा!

ये बयान क्या है? आप पढ़कर देखिए!

बहुत-बहुत बधाई!

जानकारी के लिए आभार!

जवान हो रहा है जाड़ा!

विचार तो उत्तम हैं! 

सभी को लगना चाहिए!

पुरानी बोतल नई शराब!

शत्-शत् नमन! 

जी हाँ! इस विकास की तो कल्पना भी नहीं की थी!

यही तो विडम्बना है!

मन तो बच्चों जैसा ही बना सकते हैं!

पंजाब तो हर क्षेत्र में अव्वल ही है!

सीधीबात देखकर कृतार्थ हुए!

बामुलाहिजा >> Cartoon by Kirtish Bhatt www.bamulahija.com

जीना मुहाल है!

हिन्दुस्तानियों को सबक लेना चाहिए!


आज केवल इतना ही!

.

15 comments:

  1. बहुत अच्छी चर्चा लगी |अभी दो तीन पोस्ट ही पढे हैं |बाकी दोपहर में |मुझे चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट देख कर बहुत अच्छा लगता है ऐसा ही स्नेह बने रखिये |पोस्ट शामिल करने के लिए आभार
    आशा

    ReplyDelete
  2. sarthak charcha sankshep me bahut achchhi lagi .aabhar.

    ReplyDelete
  3. sankshipt hote hue bhi aapne charcha ko bahut hi arthpoorn bhavon me piroya hai.badhai.

    ReplyDelete
  4. सभी लिंक्स सार्थक्…………सुन्दर चर्चा…………आभार्।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अनूठे अन्दाज में सजाया आपने आज का चर्चा मंच...मेरी रचना "शरद ॠतु की अगुवाई में" को आज का हिस्सा बनाने हेतु....आभार

    ReplyDelete
  6. अच्छी चर्चा है

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत अंदाज में सजा चर्चा मंच.बढ़िया लिंक्स मिले आभार.

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा!
    परिक्रमा अच्छी रही!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर बढ़िया चर्चा ....

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छी चर्चा!.बढ़िया लिंक्स मिले आभार!

    ReplyDelete
  11. bahut saarthak aur achchhi charcha ..achchhe links mile ..aabhaar

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin