चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, January 11, 2011

लौट आये काम पर हम (चर्चामंच-396)

मित्रों!
एक बार पोस्ट लगायी थी मगर उड़ गई!
रवीन्द्र प्रभात जी, रणधीर सिंह सुमन जी और मनोज पाण्डेय जी 
कल नेपाल के नगर महेन्द्र नगर की यात्रा पर गये थे 
और शाम को वो सब भी अपने-अपने घरों को रवाना हो चुके हैं! 
अब मैं पुनः अपने काम पर लौट आया हूँ!
एक दो दिन में सामान्य गति से फिर अपना काम करने लगूँगा!
प्रस्तुत है आज की चर्चा-
सबसे पहले कुछ खबरे खटीमा की

हिंदी ब्लोगिंग का एक नया कीर्तिमान अविनाश वाचस्पति 

और गिरीश बिल्लोरे मुकुल के नाम


रविवार ९ जनवरी २०११ का दिन हिंदी ब्लोगिंग के सम्मेलनीय इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो गया है। इस दिन खटीमा (उत्तराखंड) में हिंदी ब्लोगरों के सम्मलेन का जीवंत प्रसारण इंटरनेट के जरिए पूरे विश्व में सफलतापूर्वक विभिन्न एग्रीगेटर्स, खासकर ब्लॉगप्रहरी (दिल्ली), सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक,ट्विटर, गूगल-बज्ज आदि के जरिये किया ग

झांकेंगे तो आंकेंगे : खटीमा ब्‍लॉगर मिलन

इतनी सारी क्रीम, गोरेपन की तलाश
----------------------------------------

पद्मश्री ब्‍लॉगसिंह कार की चौखट पर : खटीमा हिन्‍दी ब्‍लॉगर मिलन पहले इस कार में हुआ




पद्मश्री ब्‍लॉगसिंह ब्‍लागर मीट खटीमा सिर्फ फोटो ही नहीं है छिपा हुआ है बहुत कुछ ढूंढ लो तलाश लो लिंक पर करो क्लिक आपकी फोटो खिंच जाएग..



हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के रहस्‍य


इंटरनेट पर जीवित उड़ान
---------------------------------

खटीमा में सफलतापूर्वक संपन्‍न हिन्‍दी ब्‍लॉगर सम्‍मेलन की खबरें प्रिंट मीडिया में

जो मुझे मिले हैं लिंक वे मैं दे रहा हूं जो आपको मिले हैं आप उन्‍हें जोड़ दे आपकी नजर में जिन ब्‍लॉगों पर इनकी चर्चा हो या हो पोस्‍टें उनके लिंक टिप्‍पणी में अवश्‍य दीजिए सब एक जगह इकट्ठा करने का प्रयास है यह सब सामूहिकता की ही उपलब्धि है ऐसी और सार्थक उपलब्धियां रोजाना होंगी हासिल आप बस जोड़ते और जुड़ते चलिएगा चलते रहिएगा कुछ लिंक नीचे हैं दैनिक अमर उजाला में खटीमा में आयोजित हिन्‍दी ब्‍लॉगर सम्‍मेलन की खबर  नेटवर्क 6 में खबरलोकार्पण समारोह एवं ब्लॉगर्स मीट सम्पन्न दैनिक जागरण में खटीमा में आयोजित हिन्‍दी ब्‍लॉगरों के सम्‍मेलन की गूंज  avinashvachaspati: "खटीमा में राष्ट्रीय ब्लॉगर्स मीट सम्पन्न"जीवंत प्रसारण  और यहां...

प्रिंट मीडिया में खटीमा ब्लॉगर्स सम्मेलन की गूँज

दिनांक 9-01-11 को खटीमा में आयोजित लोकार्पण समारोह एवं राष्ट्रीय ब्लॉगर मीट की गूँज प्रिंट मीडिया में भी देखी गई!दैनिक जागरण अवं अमर उजाला के नैनीताल संस्करण में इसकी व्यापक चर्चा हुई ..

"खटीमा में राष्ट्रीय ब्लॉगर्स मीट सम्पन्न"

खटीमा। साहित्य शारदा मंच के तत्वावधान में डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ की सद्यःप्रकाशित दो पुस्तकों क्रमशः सुख का सूरज (कविता संग्रह) एवं नन्हें सुमन (बाल कविता का संग्रह) का लोकार्पण समारोह एवं ब्लॉगर्स मीट का आयोजन स्थानीय राष्ट्रीय वैदिक विद्यालय, टनकपुर रोड, खटीमा (ऊधमसिंह नगर) में सम्पन्न हुआ।  पुस्तकों का लोकार्पण सभाध्यक्ष डा0 इन्द्रराम, से0नि0 प्राचार्य राजकीय...

खटीमा से जीवंत प्रसारण : पुस्‍तक लोकार्पण : हिन्‍दी ब्‍लॉगर सम्‍मेलन : ऐतिहासिक क्षण होंगे

लिंक यह सजीव है आज रविवार है वैसे तो अवकाश है पर अवकाश नहीं है हिन्‍दी ब्‍लॉगरों का। अवकाश है सर्दी है सर्दी बर्फीली है खटीमा में बर्फ नहीं है पर बर्फी है । बर्फी खाना चाहेंगे आप आयेंगे यहां से आप देख सुन तो पायेंगे परंतु बर्फी आप वहीं पर खरीद कर खा सकते हैं । जिन्‍हें हो डायबिटीज मेरी तरह वे नमकीन बर्फी खायें इसके लिये बर्फ में नमक मिलाकर खायें। वैसे नुक्‍कड़ पर जल्‍दी...

हिन्‍दी ब्‍लॉगर कर रहे हैं हंगामा : सूरज बनेगा सुखदाता

जी हां पहचान लीजिए पहुंच गए हैं लेकिन पहुंचे हैं कहां यह आप बतलायेंगे कौन हैं नाम है क्‍या करने क्‍या आए हैं सुख का सूरज  नन्‍हें सुमन जीतने सबका मन सब हैं प्रसन्‍न आप चेहरे देख रहे हैं देख तो हम भी रहे हैं तोल रहे हैं आपका मन रिपोर्ट मिलेगी कल अभी तो आगाज है अंजाम कल देखिएगा बमबजर पर होगा जीवंत प्रसारण फेसबुक, टि्वटर और बज पर रविवार सुबह देर तक मत सोते रहना वरना..

खटीमा हिन्‍दी ब्‍लॉगर मिलन : रजिस्‍टर कथा : सीएनजी गैस पम्‍प

http://avinash.nukkadh.com/2011/01/blog-post.html 
पढ़ने के लिए शीर्षक पर क्लिक क..




हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग की बगीची का विविध स्‍वरू प ब्‍लॉगिंग का जहाज उड़ने को तैयार है देख लो संभाल ली देख भाल कर कमान है वैसे कुछ सो रहे थे जबलपुर वाले....
कुछ लिंक नीचे हैं

दैनिक अमर उजाला में खटीमा में आयोजित हिन्‍दी ब्‍लॉगर सम्‍मेलन की खबर


  नेटवर्क 6 में खबर


लोकार्पण समारोह एवं ब्लॉगर्स मीट सम्पन्न


दैनिक जागरण में खटीमा में आयोजित हिन्‍दी ब्‍लॉगरों के सम्‍मेलन की गूंज

 avinashvachaspati: "खटीमा में राष्ट्रीय ब्लॉगर्स मीट सम्पन्न"

जीवंत प्रसारण 

 और यहां पर हैं खूब सारे चित्र

खटीमा में उपस्थित हुए देश भर के ब्लोगर और साहित्यकार

------------------------------




मैं कितना सुंदर हूँ मैं कितना सुंदर हूँ साथी, 
देखो मुझको ध्यान से! प्यार-भरी बातों करता हूँ, 
मैं अपनी मुस्कान से! 
मैं कितना सुंदर हूँ ... ... . आसमान म...
------------------------



ऐसा ब्लॉगर कौन हो सकता है...छह महीने-साल में एक पोस्ट लिखे...और पूरा साल चर्चा का विषय बना रहे...यहां तो हमेशा डर लगा रहता है कि भइया रोज़ कुछ नया न दिया त...

----------------------
तेरा ख़त * * *कुँवर कुसुमेश * 
आया है मेरे हाथ में फिर आज तेरा ख़त, वल्लाह लिए है नया अंदाज़ तेरा ख़त. अंजामे-मुहब्बत मुझे मालूम नहीं है, इतना पता है सिर्फ ...
---------------------


कुँवरानी निशा कँवर नरुका धनवान होना या निर्धन होना अपने आप में कोई बुराई नहीं है|किन्तु चूँकि यह युग अर्थ युग है और इसमें प्रत्येक गणना अर्थ से शुरू होती ...
---------------------

 

कभी आँखो में सूख गये ,कभी नैनों से छलक गये । बिन बोले ही अक्सर ये , राज दिल के कह गये ॥ खुशी में नम जब आँख हुयी ,जज्बातों की सौगात हुयी । रिश्तों की त...
---------------------
--------------------------


बात उन दिनों की है जब रामप्रसाद बाड़मेर जिले के एक दूरदराज विद्यालय में लिपिक पद पर कार्यरत था। एक रोज बड़े साहब की श्रीमती जी ने रामप्रसाद से कहा की वो एक प...
--------------------

-----------------------------


वह अधमरा सा था. उठ भी तो नहीं सकता था. पेड़ की टहनियों को देखा नहीं गया, वे झुककर उसे हवा करने लगीं. उसे श्वास लेने में परेशानी महसूस हो रह...

-----------------------
-----------
--------------
--------------------


--------------------
-----
-----------

 आपके दामन से मेरा, जन्म का नाता रहा है , प्यार की गहराइयों का, राज बतलाता रहा है। मौन मत बैठो कहो कुछ, आज मौसम है सुहाना, कलखी धुन ने बजाया, प्यार का मीठा त...
------------------


कवि को हो गया लेखनी से प्यार, इसी उधेरबुन में वो है लाचार, 
अपनी पीडा लेखनी को क्या बताऊँ, साथी को अपना साथ कैसे समझाऊँ। 
मेरी पहचान है तेरे बगैर, उस दीप का जो...
--------------------
-------------
तुम !!!!!!!! मेरे जीवन का केंद्र तुम.........तुम में ही तो बसते हैं मेरे प्राण........

तुम हो वहीँ तो हूँ मैं .........जो तुम हो तो मैं हूँ........

-------------------
--------------


-------------------
---------
भगवान कभी नहीं मरते हैं..!

भगवान कभी नहीं मरते हैं..!

---------------
ठंड में हुए छुहारा


17 comments:

  1. शुभकामनायें शास्त्री जी

    ReplyDelete
  2. इतनी व्यस्तता के बाद भी इतनी सुन्दर चर्चा…………धन्य है आप्………………बेहद खूबसूरती से सम्मेलन की रिपोर्ट लगाई है…………बधाई और आभार्।

    ReplyDelete
  3. शुभकामनाएँ.........साथ ही धन्यवाद मेरी रचना "कवि का प्यार" को आज के चर्चा मंच पर शामिल करने हेतु।

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन एवं प्रशंसनीय प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  5. खटीमा ब्लोगेर मीट की रोचक खबर, दो पुस्तकों के विमोचन की खबर, कई अच्छे लिंक्स सब मजेदार लगा.मेरी ग़ज़ल को स्थान दिया ,कृतज्ञ हूँ.

    ReplyDelete
  6. पता नहीं कितने-कितने तो लिंक लगा दिए हैं आपने ! समझ ही नहीं आ रहा कि कौन-सा लिंक खोलकर देखें और कहां-कहां कमेंट करें। बहरहाल, खटीमा की बधाई आपको भी और हमको भी :)

    ReplyDelete
  7. खटीमा सम्मलेन की सफलता की बहुत बधाई .
    चर्चा अच्छी लगी आभार.

    ReplyDelete
  8. sardi me bhi garnagaram charcha .badhai.

    ReplyDelete
  9. हमारे "अश्क" को मंच पर लाने के लिये आभार ।
    बहु सुन्दर चर्चा की आपने

    ReplyDelete
  10. आयोजन की सफलता के लिए प्रत्येक का आभार। नववर्ष की उत्साहपूर्ण शुरूआत आगे के लिए भी अच्छा संकेत दे रही है।

    ReplyDelete
  11. धुवाँ उठा दिया भाई खटीमा ने.... शाम की कवि गोष्ठी तो अविस्मरणीय है... आनंद कैसे कहा जाय

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया चर्चा .... निसंदेह जीवंत प्रसारण का श्री भाई गिरीश बिल्लौरेजी को जाता है ... ये सब उनकी मेहनत का परिणाम है ... आभार

    ReplyDelete
  13. सम्मेलन पर ख़ूबसूरत रपट लगाने के लिए आभार .. पढ़कर बहुत अच्छा लगा...आभार

    ReplyDelete
  14. खटीमा के प्रोग्राम के क्लिप्स देखीं ,बहुत अच्छा लगा|
    सफल प्रोग्राम के लिये बहुत बहुत बधाई |
    मेरी कविता सम्मिलित करने के लिये आभार |
    आशा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin