समर्थक

Saturday, January 22, 2011

" आज उच्चारण हुआ दो वर्ष का" (चर्चा मंच-40मि6)

मित्रों!
आदर्श नगर आजादपुर मंडी के नजदीक ......

स्थान - शिव मन्दिर शिवाजी रोड आदर्श नगर एक्सटेंसन I

आदर्श नगर मेट्रो स्टेशन के पूर्व में

कल शनिवार दिनांक 22 जनवरी, 2011 को
मुझे इसमें सम्मिलत होने के लिए
आज शाम को ही निकलना पड़ेगा।
इसलिए सीधे-सीधे
कुछ अपनी पसंद की पोस्टों के लिंक आपको दे रहा हूँ!
---------------
उच्चारण

-------------


मनोज कुमार जी को बहुत-बहुत बधाई।
--------------
मगर चलना कठिन होगा।
---------
सरकार के महँगाई बढ़ाने के कारण ही सबको मौका मिल रहा है।
--------------
हस्तक्षेप को बधाई।
-------------

बामुलाहिजा >> Cartoon by Kirtish Bhatt ...
-----------------------
अपने मन को टटोलिए तो सही।
--------------
बसन्तोत्सव का रंग दिका दिया आपने तो
----------
चाँद से दोस्ती हो हथेली में चाँदनी भर जाये सिरहाने सपना .... 
अब और क्या चाहिए ?
-----------
आप भी कुछ लिखो अमन के पैगाम के लिए...
--------------
कबीर हरि का सिमरनु छाडि कै,राति जगावन जाए॥ 
सरपनि होइ कै अऊतरै, जाइ अपुने खाए॥
--------------------
---------------------

मौसम का हालचाल : 

कवि श्री रूप चन्द्र शास्त्री मयंक स्वर अर्चना चावजी



----------------
बुलबुल के चहकने से - कोयल के कुहुकने से - फूलों के महकने से - समझ गयी तुरंत - लो फिर आ गयी बसंत- लिए संग-संग सुरभि अनंत ...!!!
लो फिर आई बसंत
--------------

मुझे समीर लाल एक शैलीकार लगते हैं: श्री ज्ञानरंजन जी: ‘देख लूँ तो चलूँ’ के विमोचन पर -सुप्रसिद्ध साहित्यकार, अग्रणी कथाकार और पहल के यशस्वी संपादक श्री ज्ञानरंजन जी के मुख्य आथित्य एवं सुप्रसिद्ध साहित्यकार डॉ हरि शंकर दुबे की अध्यक्षता मे...
---------------
 इस विरहन की मिलन की आस तुम्हीं हो 
श्याम इस पपीहे की अतृप्त सी भक्तिमय प्यास तुम्हीं हो 
तुम्हीं हो हाँ तुम्हीं हो मेरी नैया के खेवनहार मेरे एकतारे ...
-------------------
*इस समय सर्दियों का मौसम है । 
इसी मौसम में पहले कभी कभार बहँगी पर गज़क - रेवड़ी बेचने वाले 
दीख जाया करते थे। अब वह दीखते तो हैं लेकिन बहँगी की जगह ठेले...
-------------------------
*सबसे पहले यह जानना आवश्यक है कि रस क्या होता है?* 
*कविता पढ़ने या नाटक देखने पर 
पाठक या दर्शक को जो आनन्द मिलता है उसे रस कहते है...
-----------------------
----------------
प्रकृति पहाड़ों से खिलाई फूलों से सजाई ईश्वर ने हमारी यह धरती थी 
जब बनाई कोई कमी न थी छोड़ी 
पर इक ग़लती कर दी थोड़ी दे दी अक्ल हमें ---
-------------------
हर साल 21 जनवरी को अमरीका में ‘नेशनल हगिंग डे’ मनाया जाता है। 
मिलने-जुलने व गले लगने के इस दिन की शुरुआत 25 साल पहले हुई थी।*
--------------------
-----------
-------------------
-------------
--------------
-----------
---------------
-------------------
------------------
--------------------
---------------
---------------------
--------------------
meri pehli kavita
अब दीजिए आज्ञा!
नहीं तो दिल्ली जाने के लिए मेरी बस छूट जाएगी।।

LinkWithin