समर्थक

Monday, January 17, 2011

लकीरें भी बोलती हैं……………चर्चा मंच-401


सोमवार की चर्चा में आप सबका स्वागत है


एक पहेली मगर अपनी सी 

नाम ख़त्म !

फिर कैसे अपने?

जब होंगे नयन चार 
तब होगी तेरी मेरी प्रीत

बेनामियों की क़यामत का काउंटडाउन!

सच में ! वाह क्या बात है फिर तो 

अपेक्षाएँ
तू कर ले कुछ नेककाम
क्या है बताइये

उसके नाम 
तू लिख दे खत
सांवरिया के नाम
वो जान जायेंगे

'खबर
अरे बाप रे!

हाईकु [ hiku]
खुद ही पढिये और जानिये


मेरे मरने के बाद ...- सतीश सक्सेना
अरे ये क्या कह रहे हैं………लोग जीने की बात करते हैं आप क्यूं मरने के बाद की चिन्ता करते हैं

"धूप अब खिलने लगी है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")  

दिखाइये दिखाइये

आओ, पतंग उड़ायें
जरूर जी जरूर ………अब तो मौसम आ गया है

आपकी-हमारी गाढ़ी कमाई पर डाका (किस्त-1)...खुशदीप

हम जब देख भी रहे है और जानते भी है मगर फिर भी खामोश हैं…………हम हैं भारतवासी

लकीरें
देख क्या क्या कह रही हैं

अध्यात्म कविता - १
जीवन के रंग कैसे कैसे ?

याद आते हैं वे लम्हे------------- मिथिलेश
बीते हुये लम्हो की कसक साथ तो होगी

बहुत भीने भीने 

 झगड़े की जड़ है इन्सान

ये तो बिल्कुल सही बात है


मैं कब क्या होता हूँ ?
जानिये और गुनिये





और अब अन्त मे 
दिल से निकली बात दिल तक पहुंच गयी

चलिए दोस्तों अब आज्ञा दीजिये 
और 
अपने विचारों से अवगत कराते रहिये.

29 comments:

  1. अच्छी लिंक्स चुनने के लिये बहुत बहुत बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  2. चर्चा मंच की 401वीं पोस्ट के लिए बधाई!
    बहुत ही चयनित लिंकों की चर्चा करी है आपने!

    ReplyDelete
  3. @ वंदना जी,
    गुड मोर्निंग !
    म्रत्यु को याद करना आसान नहीं , जबकि एक दिन आनी हम सबको है अतः मुझे लगता है इसे भुलाया न जाए तो शायद कुछ ऐसे काम कर जाएँ जो आम तौर पर नहीं करते हैं ! अतः ऐसा लिखा गया न कि किसी नकारात्मक भावना को लेकर !
    आजके आपके दिए लिंक पढ़ रहा हूँ ....
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. aapke dil ki bat ham sabhi taq bahut achchhe se pahunch gayee.meri post lene ke liye dhanyawad.anya sabhi links me chayan shamta shandar.badhai....

    ReplyDelete
  5. अच्छे लिंक्स ,अच्छी चर्चा मुबारकबाद।

    ReplyDelete
  6. चर्चा में आपने अच्छे एवं रोचक आलेखों के लिंक
    दिए हैं। चर्चा मंच पर सम्मान प्रदान करने के लिए आपका आभारी हूँ।

    ReplyDelete
  7. उपयोगी और सार्थक चर्चा ..आभार

    ReplyDelete
  8. Sunder charcha ke liye Dhanywad...... achhe links mile hain....

    ReplyDelete
  9. सुंदर चर्चा के लिए आभार

    ReplyDelete
  10. अच्छे लिंक्स ,अच्छी चर्चा मुबारकबाद।

    ReplyDelete
  11. vandana ji aapke dwara prastut charcha sadev ullekhniy rahti hai is bar bhi vahi hal hai bas ek prarthna hai ki jo links aap leti hain un lekhakon ka thoda parichay bhi prastut kar saken to char chand lag jayenge...aaj ki charcha ki safalta ke liye badhai

    ReplyDelete
  12. वाह वंदना जी!!! क्या खूब चर्चा मंच सजा है. इतने सारे लिंक्स हैं की समझ नही आ रहा कहाँ से शुरू करूँ. कई बार सोचती हूँ की सब पोस्ट पढ़ लूँ फिर प्रतिक्रिया डालूं पर अगर ईमानदारी से करने बैठूं तो शायद चर्चा मंच पर ही प्रतिक्रिया नहीं डाल पाऊँगी सो अक्सर शाम या रात हो जाती है. अब से यहाँ एक बार नज़र डाल कर प्रतिक्रिया लिख दूंगी पोस्ट समय मिलने पर देख लूंगी. वैसे ऊपर से शुरू कर चुकी हूँ दो पोस्ट देख ली हैं
    और हाँ मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  13. सुन्दर लिंक्स से सजी बहुत सुन्दर चर्चा.मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  14. अच्छे लिंक्स ,अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  15. वंदना जी,
    आज का चर्चा मंच सार्थक लिंकों से सुशोभित हो रहा है !
    आपका सफल प्रयास स्तुत्य है !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  16. वंदना जी,नमस्कार.सारे ही लिंक एक-से-बढकर एक हैं. सतीश जी की रचना ने भी खासा प्रभावित किया.एक साथ इतने सारे अच्छे ब्लोगों को संकलित करने के लिए धन्यवाद.मेरे पोस्ट को चर्च-मंच-स्थान देने के लिये आभार.

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुन्‍दर चर्चा ...।

    ReplyDelete
  18. अच्छे लिंक्स चुने हैं आपने ..बहुत बधाई.बढ़िया चर्चा.

    ReplyDelete
  19. भिन्न भिन्न से स्वाद यहाँ पर,
    भिन्न भिन्न संजोग,
    विभिन्नता के मंच पर,
    हुए एकजुट लोग..

    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद वंदना जी..

    ReplyDelete
  20. वंदना जी,
    आपकी चर्चा से बहुत उपयोगी लेखों और कविताओं के लिंक मिल जाते हैं और कई सारे नजर में न पद जाने वाले अच्छे ब्लॉग मिल जाते हैं. इस के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद.
    मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए भी धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. वंदना जी,
    आपकी चर्चा से बहुत उपयोगी लेखों और कविताओं के लिंक मिल जाते हैं और कई सारे नजर में न पद जाने वाले अच्छे ब्लॉग मिल जाते हैं. इस के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद.
    मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए भी धन्यवाद!

    ReplyDelete
  22. वंदना जी.. सरल सरस चर्चा के लिए आभार

    ReplyDelete
  23. अच्छी लिंक्स चुनने के लिये बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  24. बहुत से काम के लिंक मिल गए। हमारे ब्लॉग को इस मंच पर सम्मान देने के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete
  25. वंदनाजी,

    नमस्कार एवं साधुवाद

    चर्चा मंच और उसमें आपका योगदान दोनों ही समाज से सरोकार रखने वालों की महती उपलब्धियां हैं. आप सिर्फ़ रचना ही नहीं करती बल्कि रचनाकारों को जोड़ती भी हैं. यह महत्वपूर्ण है. बधाइयाँ और शुभकामनाएं.



    नीरज कुमार झा

    ReplyDelete
  26. वंदना जी ......मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए शुक्रिया ......... चर्चा अच्छी लगी

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin