Followers

Friday, January 21, 2011

आज की चर्चा - २१-१-२०११ - डॉ नूतन

                 सभी को मेरा सादर अभिनन्दन | 

  आज की चर्चा के लिए मैं कुछ ब्लॉग्स और उनकी पोस्ट लायी हूँ |
 
  
कविताएँ, गज़ल ,लेख
आज जो पहली दो पोस्ट “अ” हिंदी की प्रथम वर्णमाला से शुरू की है | 
     आज ब्रोडबेंड भी काम नहीं कर रहा है और कंप्यूटर भी धोखा दे रहा है अतः बिना रंग समायोजन के चर्चा पोस्ट कर रही हूँ | बस चर्चा पोस्ट हो जाये डर है के ये पोस्ट भी ना हो पाए | भगवान के नाम से पोस्ट करती हूँ | 
                    जय हो प्रभु की
                    जय हो कंप्यूटर की 
                    जय नेटवर्क की ..

           
            अभिलाषा


       श्री श्री प्रकाश डिमरी जी

    

    लिखते हैं सिन्दूरी शाम
  ब्लॉग अनुभूति / anubhuti
में
        
         
अम्बु से ..

 
    श्री प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल जी 

       image

      कहतें है हौसला है तो ..
      ब्लॉग चिंतन मेरे मन का
       श्री हरी जोशी जी

      मेरा फोटो
    के ब्लॉग इर्दगिर्द से
मेरी पसंद : राजेन्‍द्र चौधरी की रचनाएं, अनिल कुमार जी की पोस्ट
   श्रीमती वंदना गुप्ता जी 

     image
     वो वक़्त आने से पहले

    जिंदगी एक खामोश सफर
  
    रश्मि प्रभा जी कहती हैं

    image
         माँ माँ ...
  ब्लॉग मेरी भावनायें... में
  
   अभिषेक कुमार जी का लेख

       image
अम्बानी के महंगे घर में उनका एक दिन
      ब्लॉग मेरी बातें में

    संगीता स्वरुप जी

   image
बिखरे मोती में बेहद सुन्दर अंदाज में कहतीं हैं कताई

    अजित वडनेरकर जी

     image
अपने ब्लॉग शब्दों का सफर में बताते हैं सम्पादक, एडिटर और मुदीरे-आला के बारे में | एक सुन्दर लेख
     
    
        कविताएं , लेख, गज़ल

  शन्नो अग्रवाल जी की पहली
        गज़ल

   image

     ये दुनियां उनके
      ब्लॉग ओंस में
  
   Er सत्यम शिवम जी

   image

कहते हैं तेरा साथ चाहिए 
ब्लॉग काव्य कल्पना में |
       नीलेश माथुर

     image

मेरा कुछ सामान , पांच सामान और पांच आवाज पांच कविताओं में ..  आवारा बादल में 
        दीपाली सांगवान "आब"

        image

     मासूम लम्हे .... में कहती हैं
क्या इजाफा हुवा है इम्तिहान में मेरे

आर्जव
में अभिषेक आर्जव कहते हैं
दुनिया चलती रहती है !

       image

भोजपूरी में सुनिए कमलवा गुलबवा कै बतिया..

         image

     हिमांशु जी अंजोर में

      हरकीरत "हीर"
जी

    image

जर्द पत्ते जाड़ों में धूप की बात, चार कवितायेँ 

जयप्रकाश नारायण की एक दुर्लभ कहानी "दूज का चाँद "

      image

         जानकी पुल में
      
       नागफनी का प्रेम

    image
     चंद्रमोहन जी कहते हैं

कलम बोलती है इस लिए दिल चुप है
    
      "निरंतर" की कलम से

       image
        डॉ राजेंदर "तेला" जी
यूँ मुझे भुला ना पाओगे,दूर जाना चाहो जा ना सकोगे
 
   
       डिवाइन कॉन्सपिरेसी

    image
         दर्पण साह जी
       प्राची के पार .. से

        राजीव थेपडा  जी

    image    
  ऐ.. तू, तू है.. कोई चीज नहीं है 
ब्लॉग कवि को कुछ कहने दो ना      
     
                      
        अब आई हँसने की बारी


                             मस्तान सिंह जी 
     
                          image 
            के ब्लॉग MASTAN TOONS से दो ताज़ा कार्टून

          image
                                     और
          image

                     
                                    भड़ास से
                           image  
                 
                        व्यंग - अथ श्री कांदादेवः कथा
  
                          रतन जैसवानी जी का लेख

      
                               हास्य फुहार से

                            image
                                 दो पोस्ट

          उत्तम उपहार

         image

       फाटक बाबू का सपना

          image

                                  
               लघु कथाएं, कथाएं 
  
      दानी मितव्ययी       पंकज त्रिवेदी जी के  

      प्रधान संपादक : पंकज त्रिवेदी
          विश्वगाथा 
     
      ब्लॉग में कहानी 

    खुश्बू जैसे लोग
  
      रश्मि प्रभा जी के

     image
          वटवृक्ष
   
    ब्लॉग में कहानी 
 
      शाकाहारी हाथी 
      अजीत गुप्ता जी की

      image
       कथा उनके ब्लॉग
    अजीत गुप्ता का कोना  में

            चालीस 

      गौरव सोलंकी जी के

       image
  ब्लॉग मेरा सामान
   में छपी कहानी |

             तम्मना

        शिखा कौशिक जी
         image
            के ब्लॉग
          मेरी कहानियाँ से

     ये कैसा करवाचौथ था

      डॉ नूतन गैरोला की
     image
      सत्य घटना पर आधारित
          कहानी ब्लॉग 
           अमृतरस से
    
         आप सभी एक बेहतर ब्लॉग एग्रीगेटर की तलाश में होंगे
          तो जानिये नए ब्लॉग एग्रीगेटर ब्लॉगमंच के बारे में |


            अब आप पढ़ पढ़ कर बोर ना हो गए होंगे तो अब पढ़ते      

                      नहीं, सुनते हैं - बाल कविता – डस्टर
                         
                           डॉ रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक " के 
          
                           image
                            
                                 ब्लॉग नन्हे सुमन से
आज की चर्चा यहीं  पर समाप्त करती हूँ | मिलते हैं गणतंत्र दिवस के बाद अर्थात २७ जनवरी को | तब तक के लिए विदा 

                    “भारत माता की जय”
                                    चर्चाकार -
                            डॉ, नूतन डिमरी गैरोला

31 comments:

  1. बहुत सुंदर। मन ख़ुश हो गया मंच की प्रस्तुति से। नूतन जी ने चर्चा को चार चांद लगा दिया है।

    ReplyDelete
  2. लीजिये जनाब भगवान् का नाम लेकर मैंने पढ़ भी लिया -डॉ नूतन ,आपने समग्र चर्चा तो की है -
    ब्राडबैंड और कंप्यूटर अवरोधों के बाद भी ऐसी समग्र चर्चा तो फिर अनवरोधों की चर्चा क्या होगी ?
    प्रतीक्षा रहेगी !

    ReplyDelete
  3. अच्छी सुघड़ चर्चा !

    ReplyDelete
  4. डॉ.नूतल गैरोला जी!
    चर्चा मंच के प्रति आपका समर्पण और आज का प्रस्तुतिकरण सराहनीय है।
    आभार!

    ReplyDelete
  5. अच्छी समग्र चर्चा नूतन जी.....आभार

    ReplyDelete
  6. सुंदर चर्चा है,नेट की स्पीड कम हो तो लाईव रायटर पर काम करना मुस्किल रहता है।

    आपके जज्बे को सलाम करते हैं।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही ख़ूबसूरत तरीके से सजाई गई है आज की महफ़िल , अच्छे लिंक्स , डा: नूतन जी को बधाई।

    ReplyDelete
  8. sabhi ko sadar namaskaar.... kyoonki jis jagah main hoo vaha kal se broadband nahi chal raha hai... jaise taise charcha ke liye par mai unko suchit nahi kar payi aur dhanyvaad nahi de pai jinke blog maine charcha ke liye liye hain... page load hone me 20 minute tak lag rahe hai...
    जिनके लिंक्स से आज मंच सजा है उन्हें मै यही पर धन्यवाद देती हूँ ..और कोशिश करुँगी की शाम तक उनेह इन्फोर्म कर दूं

    आप सभी को पुनः मेरा अभिवादन

    ReplyDelete
  9. sabhi ko sadar namaskaar.... kyoonki jis jagah main hoo vaha kal se broadband nahi chal raha hai... jaise taise charcha ke liye par mai unko suchit nahi kar payi aur dhanyvaad nahi de pai jinke blog maine charcha ke liye liye hain... page load hone me 20 minute tak lag rahe hai...
    जिनके लिंक्स से आज मंच सजा है उन्हें मै यही पर धन्यवाद देती हूँ ..और कोशिश करुँगी की शाम तक उनेह इन्फोर्म कर दूं

    आप सभी को पुनः मेरा अभिवादन

    अरविन्द जी ! परसों मैंने कई पोस्ट खोलीं थी वह काम आयीं .. कल रात दो बजे तक और आज सुबह ५ बजे से ... ये किसी इम्तिहान से कम नहीं... :))
    कल वंदना जी ने ५ मिनट में जो पोस्ट बनायीं ..उसको बनाने में मुझे इस स्पीड में पूरा दिन से ज्यादा लगता ..पर गनीमत है मैंने लिंक्स का संग्रह परसों से शुरू कर दिया था ... ब्रोड बेंड कल से बंद है ...

    ReplyDelete
  10. नूतन जी हौसला है तो राहे है, राहे है तो मंजिल है को पूरी तरह चरितार्थ करता आपका प्रयास.. बहुत ही खुबसूरती से परोसा गया.. सभी चर्चा मंच मे शामिल ब्लाग(लेख. कविताये) जायकेदार.. शुभकामनाये

    ReplyDelete
  11. नूतन जी बहुत ही सुंदरता से सजाया है आज का चर्चा मंच...मेरी कविता"तेरा साथ चाहिए" को आज के चर्चा मंच का हिस्सा बनाने हेतु धन्यवाद,.........यूँही अपना आशीर्वाद बनाये रखे.........आभार

    ReplyDelete
  12. bahut achchhi charcha .meri kahani ko charcha me sthan dene ke liye hardik dhaywad .

    ReplyDelete
  13. अरे नूतन जी …………कमाल कर दिया…………कितनी सुन्दर और सुव्यवस्थित चर्चा लगाई है देखकर ही आनन्द आ गया ………अभी पढी नही है बाद मे पढूँगी सभी लिंक्स्………मगर बहुत ही बढिया चर्चा …………आभार्।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर और उपयोगी चर्चा ....आभार

    ReplyDelete
  15. अशोक राठीJanuary 21, 2011 at 1:31 PM

    ये तो गागर में सागर हो गया नूतन जी ....इनमे से कुछ रचनाएं नहीं पढ़ पाया था ..आज उन्हें भी पढ़ा ...सराहनीय और समर्पित प्रयास है आपका ..

    ReplyDelete
  16. nutan ji ,
    naam ki hi tarah karya kiya hai.
    charch manch ko anokhe roop me sajaya hai.bahut sundar .badhai..

    ReplyDelete
  17. अच्छी चर्चा नूतन जी...

    ReplyDelete
  18. नूतन जी ! साहित्य की इन महान हस्तियों के बीच मुझे जगह देने के लिए धन्यवाद , आपने ऐसे समय मुझे सामिल किया जब मेरी सारी रचनाये एक भूलबस हट गयी हैं ... फिर भी दूसरो की रचनाओं की ओर का संकलन में आन्दित होने का सुअवसर मिला सभी रचनाकारों का आभार ...

    ReplyDelete
  19. सुंदर चर्चा !

    ReplyDelete
  20. नूतन जी आप जो सेवा कर रही हैं साहित्य की, सहज ही प्रशंसनीय है| आज के भौतिकता वादी युग में साहित्य की सेवा में इतना समय देना! वाकई साधुवाद की हकदार हैं आप|

    ReplyDelete
  21. नूतन जी, आपकी मेहनत सफल रही है, धन्यवाद !

    ReplyDelete
  22. नूतन तुम्हारी क्षमता पर मैं अचंभित हूँ. डाक्टर होते हुये भी साहित्य में तुम्हारी इतनी रूचि व समय निकाल कर योगदान देना..इस कार्य को तुम सफलता पूर्वक निभा रही हो. इस बार भी प्रभु के नाम से की गयी ये प्रस्तुति बहुत सुंदर रही :) भविष्य के लिये भी मेरी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  23. Manch par aakar ek suhana safar shuro hota hai jahan shabdon ke arth bilkul saaf saaf nazar aane lagte hain.
    bahut hi shubhkamnaon ke saath
    Devi Nangrani

    ReplyDelete
  24. आपने पढ्ने के लिए काफी मसाला दे दिया। आभार।

    ReplyDelete
  25. sabse pehle to nutan ji apko sadar pranam or koti koti sukriya.. apke karan ham itni pyari pyari rachnaye padh pate hai....... Anubhuti ki poem sinduri Shaam.. poet- Shri Prakash Dimri ji.. ne sach mai dil ko chu liya... kitne sundar sabdon se rachna ko sawara hai.. esa lagta hia jese suraj sam ko apni kirno ko chupa leta hai.. ek naye suboh ke liye... qki ujale ka mahatwa tav hai jab andhera hai... santulan prakriti ka niyam hai.. usi prakar dukh or sukh dono jivan mai jaruri hai.. sach kitni sundar kavita hai.. apka koti koti avar or itni pyari poem ko likhne wale un pawan poet ko v koti koti naman.....

    ReplyDelete
  26. बहुत शुक्रिया डॉ गैरोला। चर्चा सुंदर रही। इस बहाने हमें भी कई सुंदर ब्लॉग पढ़ने को मिले।
    असीम शुभकामनाएं।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...