चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, January 24, 2011

खानापूर्ति...........चर्चा मंच

दोस्तों ,
माफ़ी चाहती हूँ चर्चा के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति कर रही हूँ ..............कल से काफी व्यस्त थी और आज सुबह से तबियत ख़राब थी और दिन में एक जरूरी पार्टी में भी जाना था तो बस बुरा हाल है इसलिए जैसे भी सुमन हैं आपको अर्पित हैं .




देखते हैं 


    जरूर देखेंगे 
     
     
    तब हर्फ़ तुम 
     
     
    बिगुल फिर बजाना होगा 
     
     
    ऐसा भी होता है क्या ?
     
     
    कौन सा?
     
     
    बिल्कुल जी .......हम आपके साथ हैं 
     
     
    वाह ! क्या बात है 
     
     
    चलिए आप कहते हैं तो नहीं मांगते 
     
     
     
    खिला दो हर इक चमन मालती 
     
     
    कैसे करूँ ?
     
     
    फासलों से भी आती रही 
     
     
    और दरिया कहाँ?
     
     
    और नारी ने सुना …………
     
     
    ये तो नहीं पता था 
     
     
    शून्य में सब कुछ समाया 
     
     
    ग़ज़ल तो सिर्फ ग़ज़ल होती है 
     
     
    नमन है 
     
     
    अपनी अपनी कहानी 
     
     
चलें फ़िर अंधेरे से उजाले की ओर 



जाएँ तो जाएँ कहाँ 
जरूर जानना चाहेंगे



 
तेरे रंग ज़िन्दगी





चलिए दोस्तों अब इजाजत दीजिये ............आज बस इतना ही ............आपके विचारों की प्रतीक्षारत ..........



35 comments:

  1. तबियत खराब होते हुए भी आपने तो बहुत बढ़िया लिंक दे दिए पढ़ने के लिए!
    आपका आभार!

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. आपकी प्रश्तुति पर सिर्फ़ इतना ही कहूँगा केए ....

    "आप दिया जो जलाये वो सूरज से कम नही..

    आपकी मिल गयी जो आहट मुलाकात से कम नही... "

    ReplyDelete
  4. priya vandana ji ,

    sadar pranam .
    sarahniy prayas. sundar abhivyaktiyo
    ka sankalan samyik & ruchipurn laga .
    aapko & sabhi rachnakaron ko hriday se dhanyavad .

    ReplyDelete
  5. वाह, क्या बात है

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी और विस्तृत चर्चा ....आभार

    ReplyDelete
  7. खानापूर्ति नहीं है, बढिया चर्चा कर दी।

    ReplyDelete
  8. vandana ji,
    kuchh charchaayen padhi, bahut achhi lagi. meri rachna ko aapne yahan shaamil kar mera utsaahwardhan kiya hai, mann se bahut bahut aabhar aapka.

    ReplyDelete
  9. बिना किसी विषयवस्तु के धागे के अच्छी माला पिरो ले गयीं है | बधाई |

    ReplyDelete
  10. अच्छी चर्चा ...
    आभार !

    ReplyDelete
  11. सजा है सुंदर लिंक से आज का यह चर्चा मंच!
    उससे भी ज़्यादा भा गया एक लाइना का पंच!!

    ReplyDelete
  12. सजा है सुंदर लिंक से आज का यह चर्चा मंच!
    उससे भी ज़्यादा भा गया एक लाइना का पंच!!

    ReplyDelete
  13. व्यस्तता,अस्वस्थता के बावजूद भी सुगंधित वाचन वाटिका प्रस्तुत कर आपने प्रतिबद्धता का एक मिसाल प्रस्तुत किया है। परिपूर्णता का अनुभव सहज ही हो जा रहा है। बधाई।

    ReplyDelete
  14. वन्दना जी,

    अस्वस्थता के बावजूद आपने परिश्रम करके चर्चा को रोचक बनाया!

    "औरत" कविता को अपनी चर्चा का भाग बनाने के लिये धन्यवाद।

    साभार शुभकामनायें

    ReplyDelete
  15. जीवन के अनेक रंगों से सराबोर प्रस्तुति. खाना पूर्ति नहीं लिंक्स से भरपूर है सजा है मंच. सराहनीय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  16. खानापूर्ति....फिर भी एक लाजवाब चर्चा ...

    ReplyDelete
  17. mera lap-top kharab ho gaya hai ...jis computer se kar raha hun ...usme hindi font nahi hai ...main charchamanch ka aabharu hun //

    ReplyDelete
  18. वन्‍दना जी, आभार इस बेहतरीन चर्चा के लिये ।

    ReplyDelete
  19. vandna ji charcha ke liye bahut bahut shukriya :)

    ReplyDelete
  20. सार्थक प्रस्तुति.बधाई .

    ReplyDelete
  21. आज की चर्चा जल्दी में भी अच्छी रही .स्वास्थ्य पर ध्यान दे .मेरी कहानी '''फूल ''' को चर्चा में स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद .

    ReplyDelete
  22. सुंदर चर्चा वंदना जी|

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर चर्चा..

    ReplyDelete
  24. वंदना जी,
    हमें तो खानापूर्ति नहीं लगी !
    सारे अच्छे लिक्स हैं ,अच्छी चर्चा है

    ReplyDelete
  25. वंदना जी,
    हमें तो खानापूर्ति नहीं लगी !
    सारे अच्छे लिक्स हैं ,अच्छी चर्चा है

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर चर्चा , अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखियेगा।

    ReplyDelete
  27. आपने हमारे लिए अस्वस्था में भी इतने सारे लिंक दिए .. आपका सानी नहीं| आभार .. जल्दी स्वास्थ हो जाइये ..

    ReplyDelete
  28. बहुत ही प्रभावशाली और सार्थक चर्चा रही आज की । काफी उपयोगी और मनोहारी लिँक प्राप्त हुए । वन्दना जी बहुत बहुत आभारी हूँ आपका मेरी रचना को स्थान देने के लिए ।
    ईश्वर से प्रार्थना है आप शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करेँ ।

    ReplyDelete
  29. hehe ..khana poorti bilkul nahi hai balki acchi lagi ..kuch rachnaye acchi padhne ko mili:):)thnks

    ReplyDelete
  30. aasha hai aap swasth hongi.aaj bhi hamesha ki tarah bahut kuch padhne ko de din aap.mere liye sada aabhri rahoongi.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin